India-China 2020 Border Dispute - Military and Strategic Discussion

prasadr14

PrasadReddy
Senior Member
Joined
Sep 25, 2015
Messages
2,027
Likes
7,304
Country flag
I'm not changing goal posts. I've always been clear, the time taken to prepare for war is understandable. But in the interim there needs to be a break in relations, i.e. no chai biscuit, worsening diplomatic relations, etc. In absence of that, all military movement is posturing.

Yes. They will brush under the carpet. It's the same statement in different words. Still reconciliatory statements about hopes they'll go back.
If you keep sticking to 'they will brush under the carpet', without explaining HOW, you will start sounding like our neighbors who make ridiculous claims.

How can GOI brush anything under when they are forcing the whole world to have a wide view on what Chinese are doing?
Actions need to match with your theory.
You think tomorrow GOI will claim everything is fine & CHinese have not intruded?
Sat images are already widely spread, Whole world knows what's happening.
How in the world would it be possible to brush anything under the carpet at this juncture?
 

scatterStorm

Senior Member
Joined
May 28, 2016
Messages
1,556
Likes
3,092
Country flag
The fact that they are organising election amid an epidemic shows how much the government is concerned about public.


This is the condition of humans in rajdhani of Bihar



:facepalm:
Hospitals might not be informing the family members to increase the charge of ICU ward. Hospital tactics is something I am aware of and the business these docs make out of it.
 

Sehwag213

Regular Member
Joined
Jun 18, 2020
Messages
770
Likes
3,181
Country flag
If you keep sticking to 'they will brush under the carpet', without explaining HOW, you will start sounding like our neighbors who make ridiculous claims.

How can GOI brush anything under when they are forcing the whole world to have a wide view on what Chinese are doing?
Actions need to match with your theory.
You think tomorrow GOI will claim everything is fine & CHinese have not intruded?
Sat images are already widely spread, Whole world knows what's happening.
How in the world would it be possible to brush anything under the carpet at this juncture?
Yeah. Just day before yesterday Australian ambassador to India fought with his Chinese counterpart about change in status quo.

2 weeks ago British ambassador to India fought with his Chinese counterpart for the same thing.

Imagine saying no intrusion after ambassador of other countries are fighting for you. Then from next time no one will support you.
 

scatterStorm

Senior Member
Joined
May 28, 2016
Messages
1,556
Likes
3,092
Country flag
We may not have these SRBMs equal to China.. But few Prithvi missiles launched from Assam or even Arunachal can strike deep into Chinese Yunan & Sichuan provinces. We can cause panic among Chinese public as well provided we plan accordingly.
We have the tech but we lack numbers. Can anybody highlight the production rate of our ICBMs, MRBMs, CRBMs during war. Like how many we can pull off to sustain a massive attack?
 

prasadr14

PrasadReddy
Senior Member
Joined
Sep 25, 2015
Messages
2,027
Likes
7,304
Country flag
Yeah. Just day before yesterday Australian ambassador to India fought with his Chinese counterpart about change in status quo.

2 weeks ago British ambassador to India fought with his Chinese counterpart for the same thing.

Imagine saying no intrusion after ambassador of other countries are fighting for you. Then from next time no one will support you.
Forget Support,
We will become laughing stock of the world.
 

Sanglamorre

Senior Member
Joined
Apr 4, 2019
Messages
1,879
Likes
6,842
Country flag
If you keep sticking to 'they will brush under the carpet', without explaining HOW, you will start sounding like our neighbors who make ridiculous claims.

How can GOI brush anything under when they are forcing the whole world to have a wide view on what Chinese are doing?
Actions need to match with your theory.
You think tomorrow GOI will claim everything is fine & CHinese have not intruded?
Sat images are already widely spread, Whole world knows what's happening.
How in the world would it be possible to brush anything under the carpet at this juncture?
Okay.

The statements even being given out right now boils down to "it's hard to find middle ground with China". So, there's a thought that a middle ground is possible, difficult as it may be.

So how will it be brushed? There will be flurry of statements about how China needs to go back, but there will be unending talks so that military action doesn't seem like an option just yet.

Whenever there will be some public discontent about just talks happening, there will be like 15 more apps banned, XYZ cancelled all Chinese tenders etc.

The goal is to stretch till winter. So that only talk option remains but no military (that's what the public will be told).

Meanwhile, all diplomatic support/statements will also dry up. No one is going to come and say India needs to fight. It'll always be "India and China needs to resolve peacefully".

Till next summer rolls in, there will be coronavirus fallout, other domestic concerns. The story will be phased out. Of course some will talk about it, but GoI will say, there's deployment! Soldiers are ready to contain any mischief!

Don't forget, Samdurong Chu took 9 years to resolve. Something similar will be tried without hard military action.
 

Mikesingh

Professional
Joined
Sep 7, 2015
Messages
6,527
Likes
23,626
Country flag
what is needed is whether the time bought by talks have been used to build supply lines. Do the guys at LAC have the basis tools to take on PLA. At least sufficient ammo, food,fuel and clothing.
Also how to prevent Pakistan from trying to capitalise on the situation.
There is little or no doubt that logistic support for these extra army personnel is critical. The logisticians’ target for normal winter stocking in Leh/Ladakh is a staggering two lakh tonnes of assorted food, fuel and materiel, including munitions. The approximate cost of these supplies and goods and their transportation, would be around Rs 300 crores for formations of XIV Corps and at current inflated petrol and diesel prices, after recent repeated fuel cost increases, and induction of additional troops, would be even higher.

So yes, AWS (Advanced Winter Stocking) is up and running including for the additional troops which have been inducted. The army’s daily consumption of rations (including kerosene to keep warm in the absence of electric power in temperatures averaging minus 25 degrees Celsius in winter in this region), is around 600 tonnes.

Adding to the financial woes, additional troops deployed to the LAC would also require high altitude tents and clothing that would need to be imported from European suppliers at inflated prices, as its need is immediate, leaving little or no time for competitive bids.

And Pakistan will think a gazillion time before initiation a skirmish against India at this juncture. They simply can't afford it as also since their forces are strung out from the CPEC, Afghanistan, KPK, Sindh, Balochistan and Iran. And then they can't afford to lose their $15 billion economic empire in a war, can they?

And they are forbidden to use their F-16s against India as per the end user agreement. They got a huge rap on the knuckles from the US the last time they used it against India after Balakot. They have now sent officials to Pakistan to ensure this doesn't happen again. So without their much vaunted F-16s, they are as vulnerable as a peeled grape!
 

prasadr14

PrasadReddy
Senior Member
Joined
Sep 25, 2015
Messages
2,027
Likes
7,304
Country flag
Okay.

The statements even being given out right now boils down to "it's hard to find middle ground with China". So, there's a thought that a middle ground is possible, difficult as it may be.

So how will it be brushed? There will be flurry of statements about how China needs to go back, but there will be unending talks so that military action doesn't seem like an option just yet.

Whenever there will be some public discontent about just talks happening, there will be like 15 more apps banned, XYZ cancelled all Chinese tenders etc.

The goal is to stretch till winter. So that only talk option remains but no military (that's what the public will be told).

Meanwhile, all diplomatic support/statements will also dry up. No one is going to come and say India needs to fight. It'll always be "India and China needs to resolve peacefully".

Till next summer rolls in, there will be coronavirus fallout, other domestic concerns. The story will be phased out. Of course some will talk about it, but GoI will say, there's deployment! Soldiers are ready to contain any mischief!

Don't forget, Samdurong Chu took 9 years to resolve. Something similar will be tried without hard military action.
You mean all the defense experts who have access to Sat images on minute by minute basis will be silenced,
Opposition in India will be complicit in the silence,

Diplomats who have been pushing India's stance until now will also be told, never mind, we made idiots out of you.

Now, look at what that would do ->
Does irreparable damage to India's ability to even look into the eyes of nations like Bhutan, SL, Bangladesh, Myanmar etc etc and tell them - Hey, we can give you a hand to fight the Chinese.
Why would another country count on us ever?
Bhutan would be gone, Nepal would be gone & so will SL,

What you are saying is not in the realm of possibility, not even remotely. Simply because your theory assumes the whole world going deaf & blind.
 

Sehwag213

Regular Member
Joined
Jun 18, 2020
Messages
770
Likes
3,181
Country flag
Okay.

The statements even being given out right now boils down to "it's hard to find middle ground with China". So, there's a thought that a middle ground is possible, difficult as it may be.

So how will it be brushed? There will be flurry of statements about how China needs to go back, but there will be unending talks so that military action doesn't seem like an option just yet.

Whenever there will be some public discontent about just talks happening, there will be like 15 more apps banned, XYZ cancelled all Chinese tenders etc.

The goal is to stretch till winter. So that only talk option remains but no military (that's what the public will be told).

Meanwhile, all diplomatic support/statements will also dry up. No one is going to come and say India needs to fight. It'll always be "India and China needs to resolve peacefully".

Till next summer rolls in, there will be coronavirus fallout, other domestic concerns. The story will be phased out. Of course some will talk about it, but GoI will say, there's deployment! Soldiers are ready to contain any mischief!

Don't forget, Samdurong Chu took 9 years to resolve. Something similar will be tried without hard military action.
I hope you realise Pentagon is also closely monitoring the situation.
If we don't restore the status quo by Oct/Nov , US will start having second thoughts of our utility in Quad.
 

cereal killer

Regular Member
Joined
May 14, 2020
Messages
986
Likes
3,387
Country flag
>India must stand it's ground! We will not have normal relationship with China!

>Meanwhile 50,000th tea biscuit session underway between India on China even as China is sitting on some areas they intruded in.

>Not a single consulate has been closed or diplomats called back.

Yeah, so strong stance Xi is shaking in his boots.

Give permission to the paratroopers to do their para drop in LAC, phir Beijing and Xi ka naam lena.
I'd say the GOI response in 1967 should be appreciated. Two front used to be a bigger threat back then. China was riding high after 1962 & we on the other hand just about managed to repel Pakistan in Kashmir in 65. Even they could've accepted the fait accompli but they chose to respond & a limited kinetic response was given to China. The current GOI is in such a favourable position compared to that but then again guts are missing. Chai Biscuit diplomacy never works with China. They only respect strength.
 

Sanglamorre

Senior Member
Joined
Apr 4, 2019
Messages
1,879
Likes
6,842
Country flag
You mean all the defense experts who have access to Sat images on minute by minute basis will be silenced,
Opposition in India will be complicit in the silence,

Diplomats who have been pushing India's stance until now will also be told, never mind, we made idiots out of you.

Now, look at what that would do ->
Does irreparable damage to India's ability to even look into the eyes of nations like Bhutan, SL, Bangladesh, Myanmar etc etc and tell them - Hey, we can give you a hand to fight the Chinese.
Why would another country count on us ever?
Bhutan would be gone, Nepal would be gone & so will SL,

What you are saying is not in the realm of possibility, not even remotely. Simply because your theory assumes the whole world going deaf & blind.
The defence experts and diplomats don't matter. First are essentially powerless. Second are intruments of GoI.

As for opposition. They have enough skeletons in their closet to have to have to defend to go on offensive about this. They'll try, but post Corona there will be many domestic concerns, and resumption of CAA-NRC protests.

Yes, all of them will be gone. So what? GoI and it's apparatuses don't bother safeguarding their own land and keep getting surprised in the first place. You think they have any gall to look others in the eye except their shamelessness?

You're correct. India would lose the claim of becoming a security provider. But if we will let China walk over us, that means we didn't actually want to be one I'm earnest. India will just be the moneybag of the region countries annoy to shake down some moolah is what will be.

The world isn't deaf and blind. That's why inaction of 27th Feb has resulted in China and even Nepal thumbing its nose at us. Leave aside China, what did we do to Nepal after death of our citizens?
 

Sanglamorre

Senior Member
Joined
Apr 4, 2019
Messages
1,879
Likes
6,842
Country flag
I hope you realise Pentagon is also closely monitoring the situation.
If we don't restore the status quo by Oct/Nov , US will start having second thoughts of our utility in Quad.
And?

If India doesn't retaliate in its own land, it wasn't serious about a naval alliance in first place.

GoI will be fine as long as Delhi and MEA, MoD, beureucracy isn't threatened. Rest all is things to be negotiated including land of the country and lives of our citizens.
 

rajkumar singh

Regular Member
Joined
Oct 20, 2014
Messages
70
Likes
60
Country flag
आइए हम आकलन करें कि मोदी के भारत ने किस तरह चीन के विरुद्ध नया सुरक्षा चक्र बनाया है और अब तक की भारत की व्यूह रचना क्या है.

चीन ने मोदी को सैन्य आक्रामकता के जाल में फंसाकर, भारत की आंतरिक समस्याओं का उपयोग करने की जो रणनीति कांग्रेस और कम्युनिस्ट तत्वो से मिलकर बनाई वह असफल हो गई.

मोदी ने चीन के विरुद्ध, सर्वप्रथम राजनीतिक और आर्थिक स्तर पर आक्रमण किया तथा देश के व्यापक हित में तत्कालिक रूप से सैन्य टकराव को टाला है.

1. पृष्ठभूमि
डोकलाम विवाद के बाद ही चीन ने भारत के साथ एक युद्ध करने की तैयारी कर रखी थी.
भारत चीन के बॉर्डर पर सड़क परियोजना का निर्माण कार्य कर रहा था जिस से चीन को अपनी सुरक्षा का खतरा हुआ, चीन ने पेट्रोलिंग सीमा में अपने सेना को तैनात कर भारत के प्रति अपनी आक्रामकता का परिचय दिया.

2. तत्कालिक प्रतिक्रिया
जवाब में भारत ने ना केवल सड़क निर्माण कार्य को दुगनी गति से और तेज कर दिया बल्कि चीन की सेना की जवाब में उसी अनुपात में अपने सेना और सैन्य संसाधनों को तैनात कर चीन को यह दिखला दिया कि वह किसी भी हालत में क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता पर मोदी काल में समझौता नहीं करेगा तथा चीन को हर हालत मे उसकी पूर्ववत स्थिति में लाने के लिए बाध्य करेगा.

3. दंडात्मक कार्रवाई
भारत ने गालवान में चीन के दुस्साहस का उसके 100 से अधिक सैनिकों को बिना गोली बारूद के मार कर एक छोटी दंडात्मक कार्रवाई भी की. यह स्पष्ट संकेत है कि भारत चीन को उसके किसी भी दुस्साहस पर उसी के लहजे में उसे दंडित करेगा इसके लिए चीन की सैनिक शक्ति का उसे जरा भी भय नहीं है.

चीन के पीछे ना हटने पर भारत ने चीन के साथ युद्ध में निम्नलिखित रणनीति व्यूह रचना अपनाई है

4. सैन्य रणनीति.
(A) चीन ने पेट्रोलिंग एरिया के जिन सैन्य क्षेत्रों में बढ़त हासिल करके विवाद को जन्म दिया वहां युद्ध की परिस्थितियों को भारत के व्यापक हित में फिलहाल टाल दिया.
(B) पूरे बॉर्डर पर चीनी सैनिकों के अनुपात में ही भारतीय सैनिकों और हथियारों की तैनाती कर दी, तथा उन्हें और कोई अन्य अतिक्रमण करने से रोक दिया.
(C) पाकिस्तान और चीन द्वारा किसी भी सैन्य कार्रवाई को विफल करने के लिए अतिरिक्त बल तैनात किया है.
(D) LAC के साथ कहीं भी आक्रामक अभियान शुरू करने के लिए पहल को बनाए रखने के लिए सेना तथा सैन्य उपकरणों का पर्याप्त भंडार एकत्रित किया.

उपरोक्त भारतीय सैन्य तैयारियों से चीन को बाध्य कर दिया गया है कि वह एलएसी पर भारी-भरकम फौज की तैनाती पूरे ठंड के समय में बनाए रखें. अक्साईचिन और तिब्बत में चीन को लंबे समय तक अपनी सैन्य तैनाती बनाए रखना भारत की तुलना में अत्यंत खर्चीली साबित होगी उसके अच्छे बुनियादी ढांचे के बावजूद, दूसरा चीन को ऊंचे और दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में ऐसी तैनाती का कोई अनुभव ही नहीं है.

5. अर्थिक एवं कूटनीतिक चोट

(A) दुश्मन को बड़ी आर्थिक चोट देने के लिए उसके निवेश उसके टेंडर तथा उनके व्यापार को भारत में हर तरह से खत्म करना.
(B) दुश्मन पर अप्रत्याशित डिजिटल आक्रमण किया गया और इसके तहत दुश्मन को आर्थिक नुकसान पहुंचाने के लिए उसके 104 ऐप्स को बैन करने के साथ-साथ डिजिटल व्यापार को समाप्त कर दिया.
(C) अमेरिका जापान ऑस्ट्रेलिया ब्रिटेन आदि के साथ मिलकर QUAD का गठन करना उसमें सक्रियता बढ़ाना तथा चीन को एक ऐसे रास्ते पर धकेलना जो उसके लिए आत्मघाती होगा. उसके अंतरराष्ट्रीय व्यापार को एक गहरी चोट दी गई है.

6. प्रोपेगेंडा युद्ध /सक्रिय एजेंट

(A) चीनी सैनिकों के झूठे युद्ध के वीडियो/ प्रोपेगेंडा और उसके शक्ति प्रदर्शन को सिरे से नकार दिया गया.
(B) भारत में सक्रिय चीनी एजेंट जिसमें प्रमुख रूप से मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी , वामपंथी तत्व, चीन के इशारे पर अचानक भारत के प्रधानमंत्री को निशाना बनाकर भारत का मनोबल तोड़ने तथा युद्ध युद्ध चिल्लाने लगे, उन सब को दरकिनार कर दिया गया. इनमें एनडीटीवी, द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस, अंग्रेजी बढ़िया तथा कांग्रेस समर्थित रिटायर्ड सैन्य अफसरों भी थे, जिनके हित और पोषण कांग्रेश करती थी.

7. पड़ोसी देश
नेपाल के तत्कालीन प्रधानमंत्री और जिस तरह चीन ने अपने शिकंजे में लिया और उसके कंधे का सहारा लेकर भारत पर जो आक्रमण करने की कोशिश की उससे चीन का एक उद्देश्य था कि भारत में मोदी सरकार के प्रति विपक्ष को एक मौका देना तथा भारत को भड़काना. यहाँ मोदी सरकार ने अत्यंत संयम से काम लिया क्योंकि भारत और नेपाल के नागरिकों के बीच ऐतिहासिक काल से ही बेटी-रोटी का रिश्ता है, जिसे कोई आया-गया राम, कोली जैसा तुच्छ प्रधानमंत्री बना या बिगाड़ नहीं सकता.

कुल मिलाकर, ऐसा लगता है कि भारत ने सैन्य मोर्चे पर फिलहाल टकराव और राजनयिक और आर्थिक मोर्चे पर सजा देने की रणनीति अपनाई है वह चीन के लिए बहुत दर्दनाक होने वाला है।

8. युद्ध

दुश्मन को नेस्तनाबूद कर देने के लिए युद्ध का समय अत्यंत महत्वपूर्ण होता है. जब प्रधानमंत्री रक्षा मंत्री, विदेश विभाग और भारतीय सेना ने चीन के पीछे न हटने पर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है, तो फिर यह कहने की जरूरत नहीं है कि भारत सही समय पर जबरदस्त सबक सिखाने वाला है चीन को. बस इंतजार कीजिए. देश की आगामी रक्षा नीति मीडिया या अन्य फोरम नहीं बनाते, इसलिए युद्ध युद्ध ना चिल्लाए.

उपरोक्त सभी पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है, इससे देश की आगामी सुरक्षा या सैन्य नीति का कोई लेना देना नहीं है.

Screenshot_20200802_100852.jpg
 

Bhadra

Professional
Joined
Jul 11, 2011
Messages
11,356
Likes
18,361
Country flag
Without gaining territory by war or with talk,it will be a loss for china
They have lost the business in India
India banned their apps
They lost many big contract s
Now govt is banning imports of tv
Govt is welcoming companies to make phone s in India.........

So without gaining territory ,it will be a big loss
This time India is not ready to leave territory,
Is china ready for war.......

My understanding is ,china is claiming finger 4 to 8..... which India claims too,and China had made a road of 8 km there

What solution will come from discussion s...
Will it be a no man's land......na tumhara na mera.......

.......again deployment of additional troops from both side suggest s that both will not back......
India says it is ready for long haul, isn't it foolish,as they are already strengthening their position there ......
India and China are trapped in the phenomenon called "Security Dillema" - one side taking measures to increase their security leads to counter cation from the other which then leads to further determination of Security situation. China building massive infrastructure in Tibet has led to Indi also building infrastructure along the border. That has led to a deterioration in Chinese Security situation..
Such "Security Dilemma " was being managed by the Chinese with the help of forcing India fall for five Peace and Tranquility agreements. Under those agreement China kept building their infrastructure as also kept minimum forces in Tibet. China also killed India to almost demilitarise the border and made it a police line under ITBP,,, biggest mistake the egoistic Babus of MEA ever committed.

While India deployed 40 odd ITBP battalions and 11 Infantry divisions with paraphernalia near the border China was allowed to manage the entire border with six odd Regiments. The money the Chinese saved was put into infrastructure building and creating new areas of conflict. Chinese created facts on the ground to consolidate their hold. Indian Babus in MEA were quite content with pulling back the general from the border and making it a police line..

Now the Chinese have become unstoppable and OFB has not progressed beyond six guns in last two years. MoD and OFB has not been able to make up fifteen years of ammunition deficiency in spite of CAG crying horse about it is 2013, DRDO has spent more money over sixty years in a drawing board missile called MPATGM than would be required to import that missile.

When you raise such issues people here do not even hesitate to call you names. But they all want a War with China. I do not know why ?? Every Discovery Sharm in the forum shouts for war when Ambajhery is not able to make a faultles Pinaka. If you fire that towards China it flies towards Delhi.

Why should not China take advantage of the situation.. Have we really changed compared to Nehruvial Dilemma... to my mind that dilemma has compounded over the years..
 

rajkumar singh

Regular Member
Joined
Oct 20, 2014
Messages
70
Likes
60
Country flag
आइए हम आकलन करें कि मोदी के भारत ने किस तरह चीन के विरुद्ध नया सुरक्षा चक्र बनाया है और अब तक की भारत की व्यूह रचना क्या है.

चीन ने मोदी को सैन्य आक्रामकता के जाल में फंसाकर, भारत की आंतरिक समस्याओं का उपयोग करने की जो रणनीति कांग्रेस और कम्युनिस्ट तत्वो से मिलकर बनाई वह असफल हो गई.

मोदी ने चीन के विरुद्ध, सर्वप्रथम राजनीतिक और आर्थिक स्तर पर आक्रमण किया तथा देश के व्यापक हित में तत्कालिक रूप से सैन्य टकराव को टाला है.

1. पृष्ठभूमि
डोकलाम विवाद के बाद ही चीन ने भारत के साथ एक युद्ध करने की तैयारी कर रखी थी.
भारत चीन के बॉर्डर पर सड़क परियोजना का निर्माण कार्य कर रहा था जिस से चीन को अपनी सुरक्षा का खतरा हुआ, चीन ने पेट्रोलिंग सीमा में अपने सेना को तैनात कर भारत के प्रति अपनी आक्रामकता का परिचय दिया.

2. तत्कालिक प्रतिक्रिया
जवाब में भारत ने ना केवल सड़क निर्माण कार्य को दुगनी गति से और तेज कर दिया बल्कि चीन की सेना की जवाब में उसी अनुपात में अपने सेना और सैन्य संसाधनों को तैनात कर चीन को यह दिखला दिया कि वह किसी भी हालत में क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता पर मोदी काल में समझौता नहीं करेगा तथा चीन को हर हालत मे उसकी पूर्ववत स्थिति में लाने के लिए बाध्य करेगा.

3. दंडात्मक कार्रवाई
भारत ने गालवान में चीन के दुस्साहस का उसके 100 से अधिक सैनिकों को बिना गोली बारूद के मार कर एक छोटी दंडात्मक कार्रवाई भी की. यह स्पष्ट संकेत है कि भारत चीन को उसके किसी भी दुस्साहस पर उसी के लहजे में उसे दंडित करेगा इसके लिए चीन की सैनिक शक्ति का उसे जरा भी भय नहीं है.

चीन के पीछे ना हटने पर भारत ने चीन के साथ युद्ध में निम्नलिखित रणनीति व्यूह रचना अपनाई है

4. सैन्य रणनीति.
(A) चीन ने पेट्रोलिंग एरिया के जिन सैन्य क्षेत्रों में बढ़त हासिल करके विवाद को जन्म दिया वहां युद्ध की परिस्थितियों को भारत के व्यापक हित में फिलहाल टाल दिया.
(B) पूरे बॉर्डर पर चीनी सैनिकों के अनुपात में ही भारतीय सैनिकों और हथियारों की तैनाती कर दी, तथा उन्हें और कोई अन्य अतिक्रमण करने से रोक दिया.
(C) पाकिस्तान और चीन द्वारा किसी भी सैन्य कार्रवाई को विफल करने के लिए अतिरिक्त बल तैनात किया है.
(D) LAC के साथ कहीं भी आक्रामक अभियान शुरू करने के लिए पहल को बनाए रखने के लिए सेना तथा सैन्य उपकरणों का पर्याप्त भंडार एकत्रित किया.

उपरोक्त भारतीय सैन्य तैयारियों से चीन को बाध्य कर दिया गया है कि वह एलएसी पर भारी-भरकम फौज की तैनाती पूरे ठंड के समय में बनाए रखें. अक्साईचिन और तिब्बत में चीन को लंबे समय तक अपनी सैन्य तैनाती बनाए रखना भारत की तुलना में अत्यंत खर्चीली साबित होगी उसके अच्छे बुनियादी ढांचे के बावजूद, दूसरा चीन को ऊंचे और दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में ऐसी तैनाती का कोई अनुभव ही नहीं है.

5. अर्थिक एवं कूटनीतिक चोट

(A) दुश्मन को बड़ी आर्थिक चोट देने के लिए उसके निवेश उसके टेंडर तथा उनके व्यापार को भारत में हर तरह से खत्म करना.
(B) दुश्मन पर अप्रत्याशित डिजिटल आक्रमण किया गया और इसके तहत दुश्मन को आर्थिक नुकसान पहुंचाने के लिए उसके 104 ऐप्स को बैन करने के साथ-साथ डिजिटल व्यापार को समाप्त कर दिया.
(C) अमेरिका जापान ऑस्ट्रेलिया ब्रिटेन आदि के साथ मिलकर QUAD का गठन करना उसमें सक्रियता बढ़ाना तथा चीन को एक ऐसे रास्ते पर धकेलना जो उसके लिए आत्मघाती होगा. उसके अंतरराष्ट्रीय व्यापार को एक गहरी चोट दी गई है.

6. प्रोपेगेंडा युद्ध /सक्रिय एजेंट

(A) चीनी सैनिकों के झूठे युद्ध के वीडियो/ प्रोपेगेंडा और उसके शक्ति प्रदर्शन को सिरे से नकार दिया गया.
(B) भारत में सक्रिय चीनी एजेंट जिसमें प्रमुख रूप से मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी , वामपंथी तत्व, चीन के इशारे पर अचानक भारत के प्रधानमंत्री को निशाना बनाकर भारत का मनोबल तोड़ने तथा युद्ध युद्ध चिल्लाने लगे, उन सब को दरकिनार कर दिया गया. इनमें एनडीटीवी, द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस, अंग्रेजी बढ़िया तथा कांग्रेस समर्थित रिटायर्ड सैन्य अफसरों भी थे, जिनके हित और पोषण कांग्रेश करती थी.

7. पड़ोसी देश
नेपाल के तत्कालीन प्रधानमंत्री और जिस तरह चीन ने अपने शिकंजे में लिया और उसके कंधे का सहारा लेकर भारत पर जो आक्रमण करने की कोशिश की उससे चीन का एक उद्देश्य था कि भारत में मोदी सरकार के प्रति विपक्ष को एक मौका देना तथा भारत को भड़काना. यहाँ मोदी सरकार ने अत्यंत संयम से काम लिया क्योंकि भारत और नेपाल के नागरिकों के बीच ऐतिहासिक काल से ही बेटी-रोटी का रिश्ता है, जिसे कोई आया-गया राम, कोली जैसा तुच्छ प्रधानमंत्री बना या बिगाड़ नहीं सकता.

कुल मिलाकर, ऐसा लगता है कि भारत ने सैन्य मोर्चे पर फिलहाल टकराव और राजनयिक और आर्थिक मोर्चे पर सजा देने की रणनीति अपनाई है वह चीन के लिए बहुत दर्दनाक होने वाला है।

8. युद्ध

दुश्मन को नेस्तनाबूद कर देने के लिए युद्ध का समय अत्यंत महत्वपूर्ण होता है. जब प्रधानमंत्री रक्षा मंत्री, विदेश विभाग और भारतीय सेना ने चीन के पीछे न हटने पर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है, तो फिर यह कहने की जरूरत नहीं है कि भारत सही समय पर जबरदस्त सबक सिखाने वाला है चीन को. बस इंतजार कीजिए. देश की आगामी रक्षा नीति मीडिया या अन्य फोरम नहीं बनाते, इसलिए युद्ध युद्ध ना चिल्लाए.

उपरोक्त सभी पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है, इससे देश की आगामी सुरक्षा या सैन्य नीति का कोई लेना देना नहीं है.

View attachment 55235
आइए हम आकलन करें कि मोदी के भारत ने किस तरह चीन के विरुद्ध नया सुरक्षा चक्र बनाया है और अब तक की भारत की व्यूह रचना क्या है.

चीन ने मोदी को सैन्य आक्रामकता के जाल में फंसाकर, भारत की आंतरिक समस्याओं का उपयोग करने की जो रणनीति कांग्रेस और कम्युनिस्ट तत्वो से मिलकर बनाई वह असफल हो गई.

मोदी ने चीन के विरुद्ध, सर्वप्रथम राजनीतिक और आर्थिक स्तर पर आक्रमण किया तथा देश के व्यापक हित में तत्कालिक रूप से सैन्य टकराव को टाला है.

1. पृष्ठभूमि
डोकलाम विवाद के बाद ही चीन ने भारत के साथ एक युद्ध करने की तैयारी कर रखी थी.
भारत चीन के बॉर्डर पर सड़क परियोजना का निर्माण कार्य कर रहा था जिस से चीन को अपनी सुरक्षा का खतरा हुआ, चीन ने पेट्रोलिंग सीमा में अपने सेना को तैनात कर भारत के प्रति अपनी आक्रामकता का परिचय दिया.

2. तत्कालिक प्रतिक्रिया
जवाब में भारत ने ना केवल सड़क निर्माण कार्य को दुगनी गति से और तेज कर दिया बल्कि चीन की सेना की जवाब में उसी अनुपात में अपने सेना और सैन्य संसाधनों को तैनात कर चीन को यह दिखला दिया कि वह किसी भी हालत में क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता पर मोदी काल में समझौता नहीं करेगा तथा चीन को हर हालत मे उसकी पूर्ववत स्थिति में लाने के लिए बाध्य करेगा.

3. दंडात्मक कार्रवाई
भारत ने गालवान में चीन के दुस्साहस का उसके 100 से अधिक सैनिकों को बिना गोली बारूद के मार कर एक छोटी दंडात्मक कार्रवाई भी की. यह स्पष्ट संकेत है कि भारत चीन को उसके किसी भी दुस्साहस पर उसी के लहजे में उसे दंडित करेगा इसके लिए चीन की सैनिक शक्ति का उसे जरा भी भय नहीं है.

चीन के पीछे ना हटने पर भारत ने चीन के साथ युद्ध में निम्नलिखित रणनीति व्यूह रचना अपनाई है

4. सैन्य रणनीति.
(A) चीन ने पेट्रोलिंग एरिया के जिन सैन्य क्षेत्रों में बढ़त हासिल करके विवाद को जन्म दिया वहां युद्ध की परिस्थितियों को भारत के व्यापक हित में फिलहाल टाल दिया.
(B) पूरे बॉर्डर पर चीनी सैनिकों के अनुपात में ही भारतीय सैनिकों और हथियारों की तैनाती कर दी, तथा उन्हें और कोई अन्य अतिक्रमण करने से रोक दिया.
(C) पाकिस्तान और चीन द्वारा किसी भी सैन्य कार्रवाई को विफल करने के लिए अतिरिक्त बल तैनात किया है.
(D) LAC के साथ कहीं भी आक्रामक अभियान शुरू करने के लिए पहल को बनाए रखने के लिए सेना तथा सैन्य उपकरणों का पर्याप्त भंडार एकत्रित किया.

उपरोक्त भारतीय सैन्य तैयारियों से चीन को बाध्य कर दिया गया है कि वह एलएसी पर भारी-भरकम फौज की तैनाती पूरे ठंड के समय में बनाए रखें. अक्साईचिन और तिब्बत में चीन को लंबे समय तक अपनी सैन्य तैनाती बनाए रखना भारत की तुलना में अत्यंत खर्चीली साबित होगी उसके अच्छे बुनियादी ढांचे के बावजूद, दूसरा चीन को ऊंचे और दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में ऐसी तैनाती का कोई अनुभव ही नहीं है.

5. अर्थिक एवं कूटनीतिक चोट

(A) दुश्मन को बड़ी आर्थिक चोट देने के लिए उसके निवेश उसके टेंडर तथा उनके व्यापार को भारत में हर तरह से खत्म करना.
(B) दुश्मन पर अप्रत्याशित डिजिटल आक्रमण किया गया और इसके तहत दुश्मन को आर्थिक नुकसान पहुंचाने के लिए उसके 104 ऐप्स को बैन करने के साथ-साथ डिजिटल व्यापार को समाप्त कर दिया.
(C) अमेरिका जापान ऑस्ट्रेलिया ब्रिटेन आदि के साथ मिलकर QUAD का गठन करना उसमें सक्रियता बढ़ाना तथा चीन को एक ऐसे रास्ते पर धकेलना जो उसके लिए आत्मघाती होगा. उसके अंतरराष्ट्रीय व्यापार को एक गहरी चोट दी गई है.

6. प्रोपेगेंडा युद्ध /सक्रिय एजेंट

(A) चीनी सैनिकों के झूठे युद्ध के वीडियो/ प्रोपेगेंडा और उसके शक्ति प्रदर्शन को सिरे से नकार दिया गया.
(B) भारत में सक्रिय चीनी एजेंट जिसमें प्रमुख रूप से मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी , वामपंथी तत्व, चीन के इशारे पर अचानक भारत के प्रधानमंत्री को निशाना बनाकर भारत का मनोबल तोड़ने तथा युद्ध युद्ध चिल्लाने लगे, उन सब को दरकिनार कर दिया गया. इनमें एनडीटीवी, द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस, अंग्रेजी बढ़िया तथा कांग्रेस समर्थित रिटायर्ड सैन्य अफसरों भी थे, जिनके हित और पोषण कांग्रेश करती थी.

7. पड़ोसी देश
नेपाल के तत्कालीन प्रधानमंत्री और जिस तरह चीन ने अपने शिकंजे में लिया और उसके कंधे का सहारा लेकर भारत पर जो आक्रमण करने की कोशिश की उससे चीन का एक उद्देश्य था कि भारत में मोदी सरकार के प्रति विपक्ष को एक मौका देना तथा भारत को भड़काना. यहाँ मोदी सरकार ने अत्यंत संयम से काम लिया क्योंकि भारत और नेपाल के नागरिकों के बीच ऐतिहासिक काल से ही बेटी-रोटी का रिश्ता है, जिसे कोई आया-गया राम, कोली जैसा तुच्छ प्रधानमंत्री बना या बिगाड़ नहीं सकता.

कुल मिलाकर, ऐसा लगता है कि भारत ने सैन्य मोर्चे पर फिलहाल टकराव और राजनयिक और आर्थिक मोर्चे पर सजा देने की रणनीति अपनाई है वह चीन के लिए बहुत दर्दनाक होने वाला है।

8. युद्ध

दुश्मन को नेस्तनाबूद कर देने के लिए युद्ध का समय अत्यंत महत्वपूर्ण होता है. जब प्रधानमंत्री रक्षा मंत्री, विदेश विभाग और भारतीय सेना ने चीन के पीछे न हटने पर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है, तो फिर यह कहने की जरूरत नहीं है कि भारत सही समय पर जबरदस्त सबक सिखाने वाला है चीन को. बस इंतजार कीजिए. देश की आगामी रक्षा नीति मीडिया या अन्य फोरम नहीं बनाते, इसलिए युद्ध युद्ध ना चिल्लाए.

उपरोक्त सभी पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है, इससे देश की आगामी सुरक्षा या सैन्य नीति का कोई लेना देना नहीं है.

View attachment 55235
- the part of this post belongs to " From Denial to Punishment" written by ABHIJEET MUKHERJEE and "BHADRA"
 

Bhadra

Professional
Joined
Jul 11, 2011
Messages
11,356
Likes
18,361
Country flag
आइए हम आकलन करें कि मोदी के भारत ने किस तरह चीन के विरुद्ध नया सुरक्षा चक्र बनाया है और अब तक की भारत की व्यूह रचना क्या है.

चीन ने मोदी को सैन्य आक्रामकता के जाल में फंसाकर, भारत की आंतरिक समस्याओं का उपयोग करने की जो रणनीति कांग्रेस और कम्युनिस्ट तत्वो से मिलकर बनाई वह असफल हो गई.

मोदी ने चीन के विरुद्ध, सर्वप्रथम राजनीतिक और आर्थिक स्तर पर आक्रमण किया तथा देश के व्यापक हित में तत्कालिक रूप से सैन्य टकराव को टाला है.

1. पृष्ठभूमि
डोकलाम विवाद के बाद ही चीन ने भारत के साथ एक युद्ध करने की तैयारी कर रखी थी.
भारत चीन के बॉर्डर पर सड़क परियोजना का निर्माण कार्य कर रहा था जिस से चीन को अपनी सुरक्षा का खतरा हुआ, चीन ने पेट्रोलिंग सीमा में अपने सेना को तैनात कर भारत के प्रति अपनी आक्रामकता का परिचय दिया.

2. तत्कालिक प्रतिक्रिया
जवाब में भारत ने ना केवल सड़क निर्माण कार्य को दुगनी गति से और तेज कर दिया बल्कि चीन की सेना की जवाब में उसी अनुपात में अपने सेना और सैन्य संसाधनों को तैनात कर चीन को यह दिखला दिया कि वह किसी भी हालत में क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता पर मोदी काल में समझौता नहीं करेगा तथा चीन को हर हालत मे उसकी पूर्ववत स्थिति में लाने के लिए बाध्य करेगा.

3. दंडात्मक कार्रवाई
भारत ने गालवान में चीन के दुस्साहस का उसके 100 से अधिक सैनिकों को बिना गोली बारूद के मार कर एक छोटी दंडात्मक कार्रवाई भी की. यह स्पष्ट संकेत है कि भारत चीन को उसके किसी भी दुस्साहस पर उसी के लहजे में उसे दंडित करेगा इसके लिए चीन की सैनिक शक्ति का उसे जरा भी भय नहीं है.

चीन के पीछे ना हटने पर भारत ने चीन के साथ युद्ध में निम्नलिखित रणनीति व्यूह रचना अपनाई है

4. सैन्य रणनीति.
(A) चीन ने पेट्रोलिंग एरिया के जिन सैन्य क्षेत्रों में बढ़त हासिल करके विवाद को जन्म दिया वहां युद्ध की परिस्थितियों को भारत के व्यापक हित में फिलहाल टाल दिया.
(B) पूरे बॉर्डर पर चीनी सैनिकों के अनुपात में ही भारतीय सैनिकों और हथियारों की तैनाती कर दी, तथा उन्हें और कोई अन्य अतिक्रमण करने से रोक दिया.
(C) पाकिस्तान और चीन द्वारा किसी भी सैन्य कार्रवाई को विफल करने के लिए अतिरिक्त बल तैनात किया है.
(D) LAC के साथ कहीं भी आक्रामक अभियान शुरू करने के लिए पहल को बनाए रखने के लिए सेना तथा सैन्य उपकरणों का पर्याप्त भंडार एकत्रित किया.

उपरोक्त भारतीय सैन्य तैयारियों से चीन को बाध्य कर दिया गया है कि वह एलएसी पर भारी-भरकम फौज की तैनाती पूरे ठंड के समय में बनाए रखें. अक्साईचिन और तिब्बत में चीन को लंबे समय तक अपनी सैन्य तैनाती बनाए रखना भारत की तुलना में अत्यंत खर्चीली साबित होगी उसके अच्छे बुनियादी ढांचे के बावजूद, दूसरा चीन को ऊंचे और दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में ऐसी तैनाती का कोई अनुभव ही नहीं है.

5. अर्थिक एवं कूटनीतिक चोट

(A) दुश्मन को बड़ी आर्थिक चोट देने के लिए उसके निवेश उसके टेंडर तथा उनके व्यापार को भारत में हर तरह से खत्म करना.
(B) दुश्मन पर अप्रत्याशित डिजिटल आक्रमण किया गया और इसके तहत दुश्मन को आर्थिक नुकसान पहुंचाने के लिए उसके 104 ऐप्स को बैन करने के साथ-साथ डिजिटल व्यापार को समाप्त कर दिया.
(C) अमेरिका जापान ऑस्ट्रेलिया ब्रिटेन आदि के साथ मिलकर QUAD का गठन करना उसमें सक्रियता बढ़ाना तथा चीन को एक ऐसे रास्ते पर धकेलना जो उसके लिए आत्मघाती होगा. उसके अंतरराष्ट्रीय व्यापार को एक गहरी चोट दी गई है.

6. प्रोपेगेंडा युद्ध /सक्रिय एजेंट

(A) चीनी सैनिकों के झूठे युद्ध के वीडियो/ प्रोपेगेंडा और उसके शक्ति प्रदर्शन को सिरे से नकार दिया गया.
(B) भारत में सक्रिय चीनी एजेंट जिसमें प्रमुख रूप से मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी , वामपंथी तत्व, चीन के इशारे पर अचानक भारत के प्रधानमंत्री को निशाना बनाकर भारत का मनोबल तोड़ने तथा युद्ध युद्ध चिल्लाने लगे, उन सब को दरकिनार कर दिया गया. इनमें एनडीटीवी, द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस, अंग्रेजी बढ़िया तथा कांग्रेस समर्थित रिटायर्ड सैन्य अफसरों भी थे, जिनके हित और पोषण कांग्रेश करती थी.

7. पड़ोसी देश
नेपाल के तत्कालीन प्रधानमंत्री और जिस तरह चीन ने अपने शिकंजे में लिया और उसके कंधे का सहारा लेकर भारत पर जो आक्रमण करने की कोशिश की उससे चीन का एक उद्देश्य था कि भारत में मोदी सरकार के प्रति विपक्ष को एक मौका देना तथा भारत को भड़काना. यहाँ मोदी सरकार ने अत्यंत संयम से काम लिया क्योंकि भारत और नेपाल के नागरिकों के बीच ऐतिहासिक काल से ही बेटी-रोटी का रिश्ता है, जिसे कोई आया-गया राम, कोली जैसा तुच्छ प्रधानमंत्री बना या बिगाड़ नहीं सकता.

कुल मिलाकर, ऐसा लगता है कि भारत ने सैन्य मोर्चे पर फिलहाल टकराव और राजनयिक और आर्थिक मोर्चे पर सजा देने की रणनीति अपनाई है वह चीन के लिए बहुत दर्दनाक होने वाला है।

8. युद्ध

दुश्मन को नेस्तनाबूद कर देने के लिए युद्ध का समय अत्यंत महत्वपूर्ण होता है. जब प्रधानमंत्री रक्षा मंत्री, विदेश विभाग और भारतीय सेना ने चीन के पीछे न हटने पर अपना रुख स्पष्ट कर दिया है, तो फिर यह कहने की जरूरत नहीं है कि भारत सही समय पर जबरदस्त सबक सिखाने वाला है चीन को. बस इंतजार कीजिए. देश की आगामी रक्षा नीति मीडिया या अन्य फोरम नहीं बनाते, इसलिए युद्ध युद्ध ना चिल्लाए.

उपरोक्त सभी पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है, इससे देश की आगामी सुरक्षा या सैन्य नीति का कोई लेना देना नहीं है.

View attachment 55235
Mere write up ka Hindi Roopantarana ..... ye think nahin hai,,, theek hai. Jisko jitana chahiye kat kaat Le jai...
 

rajkumar singh

Regular Member
Joined
Oct 20, 2014
Messages
70
Likes
60
Country flag
Mere write up ka Hindi Roopantarana ..... ye think nahin hai,,, theek hai. Jisko jitana chahiye kat kaat Le jai...
सभी चीज मिल बांट कर खाने में ही ज्यादा आनंद है.
Thanks. I tried to edit your name on post but couldn't succeed. So on reply I added.
 

Latest Replies

Global Defence

New threads

Articles

Top