Republic Of India - Universities, IIT's, Schools

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu being received by the Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma and the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta, on his arrival, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018.


The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu inaugurating the Academic and Seminar Complex at Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma and the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta are also seen.


The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu at an event to inaugurate the Academic & Seminar Complex and laying the foundation stone for Students and Research Scholars’ Hostels at Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma, the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta and other dignitaries are also seen.


The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu unveiling the plaques for laying the foundation stones for Students and Research Scholars’ Hostels at Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma and the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta are also seen.

The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu addressing the gathering after inaugurating the Academic & Seminar Complex and laying the foundation stone for Students and Research Scholars’ Hostels at Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018.


The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu addressing the gathering after inaugurating the Academic & Seminar Complex and laying the foundation stone for Students and Research Scholars’ Hostels at Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma and the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta are also seen.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu witnessing the traditional Cheraw dance performed by the Students of Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma, the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta and other dignitaries are also seen.


The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu witnessing the traditional Cheraw dance performed by the Students of Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma, the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta and other dignitaries are also seen.


The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu with the Students who have performed the traditional Cheraw dance at Mizoram University, in Aizawl, Mizoram on May 24, 2018. The Governor of Mizoram, Lt. Gen. (Retd.) Nirbhay Sharma, the Finance Minister of Mizoram, Shri Pu Lalsawta and other dignitaries are also seen.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar visiting the exhibition at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha is also seen.


The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar visiting the exhibition at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha is also seen.


The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha, the Secretary, Department of School Education & Literacy, Shri Anil Swarup and other dignitaries are also seen.


The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar releasing the brochure at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha, the Secretary, Department of School Education & Literacy, Shri Anil Swarup and other dignitaries are also seen.

The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar launching the ‘Samagra Shiksha’ website, at a function, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha, the Secretary, Department of School Education & Literacy, Shri Anil Swarup and other dignitaries are also seen.


The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar releasing the brochure at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha, the Secretary, Department of School Education & Literacy, Shri Anil Swarup and other dignitaries are also seen.


The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar launching the ‘Samagra Shiksha’ website, at a function, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha, the Secretary, Department of School Education & Literacy, Shri Anil Swarup and other dignitaries are also seen.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar addressing at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018.


The Union Minister for Human Resource Development, Shri Prakash Javadekar addressing at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018. The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha and other dignitaries are also seen.

The Minister of State for Human Resource Development, Shri Upendra Kushwaha addressing at the launch of the ‘Samagra Shiksha’, in New Delhi on May 24, 2018.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
Ministry of Human Resource Development
24-May, 2018 20:17 IST
University Grants Commission has approved UGC (Online Courses) Regulations, 2018 as landmark reform in the field of Higher Education.

Higher Educational Institutions can now offer Certificate, Diploma and Degree Programmes in full-fledged online mode in line with their regular programs.
In a landmark reform in the field of Higher Education, University Grants Commission has approved UGC (Online Courses) Regulations, 2018 in its meeting held on 24th May, 2018. Higher Educational Institutions can offer Certificate, Diploma and Degree Programmes in full-fledged online mode in only those disciplines in which it has already been offering the same or similar Programmes /Courses at graduation level in regular mode (of classroom teaching) or in Open and Distance Learning mode and from which at least one batch has been graduated and approved by the statutory councils, as applicable. Online Programmes requiring Practical/ Laboratory Courses as a curricular requirement shall not be permitted. The Examinations shall be conducted in proctored mode and in conformity with any norms for such examinations stipulated by the commission. The online learning shall have minimum four quadrants: video lectures, e- content, self-assessment and discussion forum to clarify doubts.

The Higher Educational Institutions will be eligible to offer Online Programmes if they have been in existence for at least five years and are accredited by the National Assessment and Accreditation Council (NAAC) with a valid minimum score of 3.26 on a 4-point scale; and should be in the top-100 in overall category in the National Institutional Ranking Framework (NIRF) for at least two years in the previous three years. However, NAAC and NIRF conditions shall not be applicable to existing government Open Universities till NAAC or similar accreditation system or NIRF are made available.

Aadhaar and Passport shall be used to authenticate the Indian and foreign students respectively for all online interactions including teaching-learning and examinations.

The learners’ engagement will be monitored via participation in asynchronous / synchronous discussions, assignment activity and Programme involvement. The analytics of Learning Management System shall be used for ensuring the learner’s participation at least for 2 hours every fortnight.

Overall Regulations provide enabling provisions for maintaining sanctity of admissions, teaching-learning, examination, authenticity of the learner and mandatory disclosure of Programme-wise information such as duration, start & end dates, fee, number of students, name of students with identifier, results, on HEI website/public domain.

These regulations will be made applicable from the academic session 2018-19. This initiative is a big step towards attaining the targeted GER of 30% by the year 2020.

*****
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
Ministry of Human Resource Development
24-May, 2018 18:57 IST
Ministry of HRD launches ‘SamagraSiksha’ scheme for holistic development of school education

Emphasis on Integrationof two Ts - Teacher and Technology in the new scheme willhelp improve quality of education:Shri Prakash Javadekar
The Union Minister for Human Resource Development,Shri Prakash Javadekarlaunchedthe SamagraShiksha’ - an integrated Scheme for school education extending support to States from pre-school to senior secondarylevels for the first timein New Delhi today. The Scheme is a paradigm shift in the conceptual design of school educationby treating ‘school’ holistically as a continuum from pre-school, primary, upper primary, secondary and senior secondary levels.

Speaking on this occasion, Shri Javadekar said that in keeping with Prime Minister’s commitment of providing of ‘SabkoShikshaAchchiShiksha’,The Ministry of HRD has taken a landmark step and completely overhauled the existing Schemes in School Education to treat schooling as a smooth transition from pre-school, primary, upper primary, secondary and senior secondary level. It focuses on improving quality of education at all levels by integrating the two T’s – Teachers and Technology.He elaborated that ‘Samagra’ means a holistic approach to treat education as a wholeand the Scheme is very aptly named as it sees school education holistically without segmenting it into various levels of education.

Shri Prakash Javadekarsaid that earlier the budget on the three schemes ie SSA, RMSA and Teacher Education wasRs. 28,000 crore in 2017-18. But the budget outlay on the new scheme will be now Rs. 34,000 crore in 2018-19 and toRs. 41,000crore in 2019-20 i.e. an increase of 20% which shows Central Government’s commitment for Education. He said that about one million schools will get library grant of Rs. 5,000 to Rs. 20,000to strengthen the libraries to ensure that “Padhega Bharat Badhega Bharat”.

He further said every school will get sports equipment under the SamagraShiksha, at the cost of Rs. 5000 for Primary, Rs. 10,000 for Upper Primary & up to Rs. 25,000 for SSC & HSC schools to inculcate & emphasize relevance of sports to realise the dream of “Khelega India Khilega India”. Shri Javadekar saidKasturba Gandhi BalikaVidyalaya (KGBV) to be expanded from Class 6-8 to Class 6-12 with allocation of Rs. 4385.60 crores in 2018-19 & Rs. 4553.10 crores in 2019-20 to fulfil Prime Minister Shri Narendra Modi’s commitment to BetiBachaoBetiPadhao.

He said that thescheme will build on the grade-wise, subject-wise Learning Outcomesand the largest National Achievement Survey (NAS) conducted in 2017-18 to strategize district level interventions for improving quality of education. This approach would help to shiftthe focus of student learning from content tocompetencies. The Scheme envisages active participation of all stakeholders especially the parents/guardians, School ManagementCommittee (SMC) members, community and the statefunctionaries towards the efforts to ensure quality education to children.

Shri Javadekar said that a teacher is the fulcrum of the school education system. Scheme will focus on strengthening this crucial pillar by making SCERTs and DIETs the nodal agencies for teacher training. These institutions would be strengthened to emphasize the integration of in-service and pre-service training structures in States to make it need-focused and dynamic. This would strengthen the quality of teaching in schools across levels.

He said that this will enable reaping the benefits of technology and widening the access of good quality education across all States and UTs and across all sections of the Society.“DIKSHA”- the national digital platform for teachers would put high quality teaching learning resources for ready use of teachers. The Scheme will support ‘Operation Digital Board’ in all secondary schools over a period of 5 years, so as to enhance the use of digital technology through smart classrooms, digital boards and DTH channels. The Digital initiatives like ShaalaKosh, Shagun, ShaalaSaarthi will be strengthened.

The Minister also announced a competition over myGov to design an apt logo for the scheme which signifies a holistic approach for holistic development of children.

Shri Upendra Kushwaha in his address said that it is a new beginning in the field of education and SamagraShiksha will integrate schemes through a single school education development programme covering grades pre-school to 12thwhich would help in looking at a school as a unit. He pointed out that it is the Endeavour of the Government to equip our children with all-round skills – academic, extracurricular and vocational- so that they lay a strong foundation for the future development of India.He further said that the Integrated Scheme is a paradigm shift in conceptual design of school education envisaging to integrate teacher, technology and student learning.He furthersaid thatfocus will be on teachers’ training and technologyto improve the quality education.

Shri Prakash Javadekar also unveiled the brochure and website of the Samagra Shiksha Scheme. The brochure gives an insight into the major features of the Scheme and how the Scheme focuses on improving quality of education, enhancing the Learning Outcomes and using technology to empower children and teachers.

The Website provides details about the Scheme for information of the States/UTs, teachers, children, institutions and public at large. It details out the interventions for which financial support is provided under the Scheme to States and UTs. All notifications, correspondences and circulars are uploaded on the website for ready reference of States and UTs. An online Project Monitoring System is linked to the website which measures progress against targets and monitors processes of implementation of various interventions of the Integrated Scheme.

Shri Anil Swarup, Secretary, Department of School Education and Literacy, Ms. Rina Ray, Special Secretary, Department of School Education and Literacy, and senior officials of the HRD Ministry were also present on this occasion.

The programme began with the beautiful rendition of SaraswatiVandana by the children of National Bal Bhawan.



*****
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Prime Minister, Shri Narendra Modi arrives in West Bengal on May 25, 2018.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi being received by the Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi and the Minister of State for Heavy Industries & Public Enterprises, Shri Babul Supriyo, on his arrival, in West Bengal on May 25, 2018.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
Prime Minister Narendra Modi arrives to attend Annual Convocation programme of Visva-Bharati University in Birbhum on Friday. | Photo Credit: PTI


The origins of this eminent university date back to 1863 when Maharshi Debendranath Tagore, the zamindar of Silaidaha in East Bengal, was given a tract of land by Babu Sitikanta Sinha, the zamindar of Raipur, which is a neighbouring village not far from Bolepur and present-day Santiniketan and set up an ashram at the spot that has now come to be called chatim tala at the heart of the town. The ashram was initially called Brahmacharya Ashram, which was later renamed Brahmacharya Vidyalaya.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Prime Minister, Shri Narendra Modi being received by the Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee, on his arrival, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.


The Prime Minister, Shri Narendra Modi welcomes the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina, on her arrival, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi with the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee is also seen.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi with the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina at the Convocation of Visva-Bharati University, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi, the Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee and other dignitaries are also seen.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina at the Convocation of Visva-Bharati University, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi, the Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee and other dignitaries are also seen.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina at the Convocation of Visva-Bharati University, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi, the Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee and other dignitaries are also seen.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing at the Convocation of Visva-Bharati University, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.


The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing at the Convocation of Visva-Bharati University, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina, the Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi and the Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee are also seen.


The Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina signing the visitors’ book at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Prime Minister, Shri Narendra Modi is also seen.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina jointly inaugurating the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi and other dignitaries are also seen.


The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina jointly inaugurated the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina jointly inaugurated the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee is also seen.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina during the inauguration of the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
The Prime Minister, Shri Narendra Modi and the Prime Minister of Bangladesh, Ms. Sheikh Hasina during the inauguration of the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018. The Governor of West Bengal, Shri Keshari Nath Tripathi, the Chief Minister of West Bengal, Ms. Mamata Banerjee and other dignitaries are also seen.


The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing the gathering after the inauguration of the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing the gathering after the inauguration of the Bangladesh Bhavan, at Santi Niketan, in West Bengal on May 25, 2018.
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
Prime Minister's Office
25-May, 2018 17:10 IST
Text of PM’s Address at the convocation of Visva Bharti University at Santiniketan in West Bengal

मंच पर विराजमान बंग्‍लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना जी, पश्चिम बंगाल के राज्‍यपाल श्रीमान केसरी नाथजी त्रिपाठी, पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री सुश्री ममता बनर्जी जी, विश्‍व भारती के उपाचार्य प्रोफेसर सबूज कोलीसेन जी और रामकृष्‍ण मिशन विवेकानंद इंस्‍टीटयूट के उपाचार्य पूज्‍य स्‍वामी आत्‍मप्रियानंद जी और यहां मौजूद विश्‍व भारती के अध्‍यापकगण और मेरे प्‍यारे युवा साथियों।


मैं सबसे पहले विश्‍व भारती के चांसलर के नाते आप सबकी क्षमा मांगता हूं। क्‍योंकि जब मैं रास्‍ते में आ रहा था। तो कुछ बच्‍चे इशारे से मुझे समझा रहे थे कि पीने का पानी भी नहीं है। आप सबको जो भी असुविधा हुई है। चांसलर के नाते ये मेरा दायित्‍व बनता है और इसलिए मैं सबसे पहले आप सबसे क्षमा मांगता हूं।


प्रधानमंत्री होने के नाते मुझे देश के कई विश्‍वविद्यालयों के convocation में हिस्‍सा लेने का अवसर मिला है। वहां मेरी सहभागिता अतिथि के रूप में होती है लेकिन यहां मैं एक अतिथि नहीं बल्कि आचार्य यानि चांसलर के नाते आपके बीच में आया हूं। यहां जो मेरी भूमिका है वो इस महान लोकतंत्र के कारण है। प्रधानमंत्री पद की वजह से है। वैसे ये लोकतंत्र भी अपने आप में एक आचार्य तो है जो सवा सौ करोड़ से अधिक हमारे देशवासियों को अलग-अलग माध्‍यमों से प्रेरित कर रहा है। लोकतांत्रिक मूल्‍यों के आलोक में जो भी पोषित और शिक्षित होता है वो श्रेष्‍ठ भारत और श्रेष्‍ठ भविष्‍य के निर्माण में सहायक होता है।


हमारे यहां कहा गया है। कि आचार्यत विद्याविहिता साघिष्‍ठतम प्राप्‍युति इति यानि आचार्य के पास जाएं उसके बगैर विद्या, श्रेष्‍ठता और सफलता नहीं मिलती। ये मेरा सौभाग्‍य है कि गुरुदेव रविन्‍द्र नाथ ठाकुर की इस पवित्र भूमि पर इतने आचार्यों के बीच मुझे आज कुछ समय बिताने का सौभाग्‍य मिला है।


जैसे किसी मंदिर के प्रागंन में आपको मंत्रोच्‍चार की ऊर्जा महसूस होती है। वैसी ही ऊर्जा मैं विश्‍व भारती, विश्‍वविद्यालय के प्रागंन में अनुभव कर रहा हूं। मैं जब अभी कार से उतरकर मंच की तरफ आ रहा था तो हर कदम, मैं सोच रहा था कि कभी इसी भूमि पर यहां के कण-कण पर गुरुदेव के कदम पड़े होंगें। यहां कहीं आस-पास बैठकर उन्‍होंने शब्‍दों को कागज पर उतारा होगा। कभी कोई धुन, कोई संगीत गुनगुनाया होगा। कभी महात्‍मा गांधी से लंबी चर्चा की होगी। कभी किसी छात्र को जीवन का, भारत का, राष्‍ट्र के स्‍वाभिमान का मतलब समझाया होगा।


साथियों, आज इस प्रागंण में हम परंपरा को निभाने के लिए एकत्र हुए हैं। यह अमरकुंज लगभग एक सदी से ऐसे कई अवसरों का साक्षी रहा है। बीते कई वर्षों से जा आपने यहां सीखा उसका एक पड़ाव आज पूरा हो रहा है। आपमें से जिन लोगों को आज डिग्री मिली है उनको मैं ह्दयपूर्वक बहुत-बहुत बधाई देता हूं। और भविष्‍य के लिए असीम शुभकामनाएं मैं उनको देता हूं। आपकी ये डिग्री, आपकी ये शैक्षिणिक योग्‍यता का प्रमाण है। इस नाते ये अपने-आप में महत्‍वपूर्ण है। लेकिन आपने यहां सिर्फ ये डिग्री ही हासिल की है ऐसा नहीं है। आपने यहां से जो सीखा, जो पाया वो अपने आप में अनमोल है। आप एक समृद्ध विरासत के वारिस है। आपका नाता एक ऐसी गुरु शिष्‍य परंपरा से है। जो जितनी पुरातन है उतनी ही आधुनिक भी है।


वैदिक और पौराणिक काल में जिसे हमारे ऋषियों-मुनियों ने सींचा। आधुनिक भारत में उसे गुरुदेव रवीन्‍द्रनाथ टैगोर जैसे मुनिषयों ने आगे बढ़ाया। आज आपको जो ये सप्‍तपरिणय का गुच्‍छ दिया गया है। ये भी सिर्फ पते नहीं है। बल्कि एक महान संदेश है। प्र‍कृति किस प्रकार से हमें एक मनुष्‍य के नाते, एक राष्‍ट्र के नाते उत्‍तम सीख दे सकती है। ये उसी का एक परिचायक, उसकी मिसाल है। यही तो इस अप्रतिम संस्‍था के पीछे की भावना, यही तो गुरुदेव के विचार हैं, जो विश्‍व भारती की आधारशिला बनी।


भाईयों और बहनों यत्र विश्‍वम भवेतेक निरम यानि सारा विश्‍व एक घोसला है, एक घर है। ये वेदों की वो सीख है। जिसको गुरुदेव ने अपने बेशकीमती खजाने के विश्‍व भारती का धैय वाक्‍य बनाया है। इस वेद मंत्र में भारत की समृद्ध परंपरा का सार छुपा है। गुरुदेव चाहते थे कि ये जगह उद्घोषणा बने जिसको पूरा विश्‍व अपना घर बनाए। घोसले और घरोंदों को जहां एक ही रूप में देखा जाता है। जहां संपूर्ण विश्‍व को समाहित करने की भावना हो। यही तो भारतीयता है। यही वसुधैव कुटुम्‍बकम् का मंत्र है। जो हजारों वर्षों से इस भारत भूमि से गुंजता रहा और और इसी मंत्र के लिए गुरुदेव ने पूरा जीवन समर्पित कर दिया है।


साथियों वेदों, उपनिषदों की भावना जितनी हजारों साल से पहले से सार्थक थी उतनी ही सौ साल पहले जब गुरुदेव शांति निकेतन में पधारे। आज 21वीं सदी की चुनौतियों से जुझते विश्‍व के लिए भी ये उतनी ही प्रासंगिक है। आज सीमाओं के दायरे में बंधे राष्‍ट्र एक सच्‍चाई है। लेकिन ये भी सच है इस भू-भाग की महान परंपरा को आज दुनिया globalization के रूप में जी रही है। आज यहां हमारे बीच में बंग्‍लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना जी भी मौजूद हैं। शायद ही कभी ऐसा मौका आया हो। कि एक convocation में दो देश के प्रधानमंत्री मौजूद हों।


भारत और बंग्‍लादेश दो राष्‍ट्र हैं लेकिन हमारे हित एक-दूसरे के साथ समन्‍वय और सहयोग से जुड़े हुए हैं। culture हो या public policy हम एक-दूसरे से बहुत कुछ सीख सकते हैं। इसी का एक उदाहरण बंग्‍लादेश भवन है। जिसका थोड़ी में हम दोनों वहां जाकर के उद्घाटन करने वाले हैं। ये भवन भी गुरुदेव के vision का ही प्रतिबिंब है।


साथियों, मैं कई बार हैरान रह जाता हूं। जब देखता हूं कि गुरुदेव का व्‍यक्तित्‍व का ही नहीं बल्कि उनकी यात्राओं का विस्‍तार भी कितना व्‍यापक था। अपनी विदेश यात्राओं के दौरान मुझे अनेक ऐसे लोग मिलते हैं। जो बताते हैं कि टैगोर कितने साल पहले उनके देश में आए थे। उन देशों में आज भी बहुत सम्‍मान के साथ गुरुदेव को याद किया जाता है। लोग टैगोर के साथ खुद को जोड़ने की कोशिश करते हैं।


अगर हम अफगानिस्‍तान जाएं तो काबुली वाला की कहानी का जिक्र हर अफगानिस्‍तानी करता ही रहता है। बड़े गर्व के साथ करता है। तीन साल पहले जब मैं तजाकिस्‍तान गया तो वहां पर मुझे गुरुदेव की एक मूर्ति का लोकार्पण करने का भी अवसर मिला था। गुरुदेव के लिए वहां के लोगों में जो आदर भाव मैंने देखा वो मैं कभी भूल नहीं सकता।



दुनिया के अनेक विश्‍वविद्यालयों में टैगोर आज भी अध्‍ययन का विषय है। उनके नाम पर chairs हैं अगर मैं कहूं कि गुरुदेव पहले भी ग्‍लोबल सि‍टिजन थे और आज भी है। तो गलत नहीं होगा। वैसे आज इस अवसर पर उनका गुजरात से जो नाता रहा उसका वर्णन करने के मोह से मैं खुद को रोक नहीं पा रहा। गुरुदेव का गुजरात से भी एक विशेष नाता रहा है। उनके बड़े भाई सत्‍येंद्रनाथ टैगोर जो सिविल सेवा join करने वाले पहले भारतीय थे। काफी समय वे अहमदाबाद में भी रहे। संभवत: वो तब अहमदाबाद के कमीशनर हुआ करते थे। और मैंने कहीं पढ़ा था। कि पढ़ाई के लिए इंगलैंड जाने से पहले सत्‍येंद्रनाथ जी अपने छोटे भाई को छ: महीने तक अंग्रेजी साहित्‍य के अध्‍ययन वहीं अहमदाबाद में कराया था। गुरुदेव की आयु तब सिर्फ 17 साल की थी। इसी दौरान गुरुदेव ने अपने लोकप्रिय नोवल खुदितोपाशान के महत्‍वपूर्ण हिस्‍से और कुछ कविताएं भी अहमदाबाद में रहते हुए लिखी थी। यानि एक तरह से देखें तो गुरुदेव के वैश्विक पटल पर जीत स्‍थापित होने में एक छोटी सी भूमिका हिन्‍दुस्‍तान के हर कोने की रही है, उसमें गुजरात भी एक है।


साथियों, गुरुदेव मानते थे कि हर व्‍यक्ति का जन्‍म किसी न किसी लक्ष्‍य की प्राप्ति के लिए होता है। प्रत्‍येक बालक अपनी लक्ष्‍य प्राप्ति की दिशा में बढ़ सके इसके लिए योग्‍य उसे बनाना इसमें शिक्षा का महत्‍वपूर्ण योगदान है। वो बच्‍चों के लिए कैसी शिक्षा चाहते थे। उसकी झलक उनकी कविता power of affection में हम अनुभव कर सकते हैं। वो कहते थे कि शिक्षा केवल वही नहीं है जो विद्यालय में दी जाती है। शिक्षा तो व्‍यक्ति के हर पक्ष का संतुलित विकास है जिसे समय और स्‍थान के बंधन में बांधा नहीं जा सकता है। और इसलिए गुरुदेव हमेशा चाहते थे कि भारतीय छात्र बाहरी दुनिया में भी जो कुछ हो रहा है उससे भली-भांति परिचित रहे। दूसरे देशों के लोग कैसे रहते हैं, उनके सामाजिक मूल्‍य क्‍या हैं, उनकी सांस्‍कृतिक विरासत क्‍या है। इस बारे में जानने पर वो हमेशा जोर देते थे। लेकिन इसी के साथ वो ये भी कहते थे। कि भारतीयता नहीं भूलनी चाहिए।


मुझे बताया गया है कि एक बार अमेरिका में agriculture पढ़ने गए अपने दामाद को चिट्ठी लिखकर भी उन्‍होंने ये बात विस्‍तार से समझायी थी। और गुरुदेव ने अपने दामाद को लिखा था कि वहां सिर्फ कृषि की पढ़ाई ही काफी नहीं है। बल्कि स्‍थानीय लोगों से मिलना-जुलना ये भी तुम्‍हारी शिक्षा का हिस्‍सा है। और आगे लिखा लेकिन अगर वहां के लोगों को जानने के फेर में तुम अपने भारतीय होने की पहचान खोने लगो तो बेहतर है कि कमरे में ताला बंद करके उसके भीतर ही रहना।


भारतीय राष्‍ट्रीय आंदोलन में टैगोर जी का यही शैक्षणिक और भारतीयता में ओतप्रोत दर्शन एक दूरी बन गया था। उनका जीवन राष्‍ट्रीय और वैश्विक विचारों का समावेश था जो हमारी पुरातन परंपराओं का हिस्‍सा रहा है। ये भी एक कारण रहा कि उन्‍होंने यहां विश्‍व भारती में शिक्षा की अलग ही दुनिया का सर्जन किया। सादगी यहां की शिक्षा का मूल सिद्धांत है। कक्षाएं आज भी खुली हवा में पेड़ों के नीचे चलाई जाती हैं। जहां मनुष्‍य और प्रकृति के बीच सीधा संवाद होता है। संगीत, चित्रकला, नाट्य अभिनय समेत मानव जीवन के जितने भी आयाम होते हैं, उन्‍हें प्रकृति की गोद में बैठकर निखारा जा रहा है।


मुझे खुशी है कि जिन सपनों के साथ गुरुदेव ने इस महान संस्‍थान की नींव रखी थी। उनको पूरा करने की दिशा में ये निरंतर आगे बढ़ रहा है। शिक्षा को skill development से जोड़कर और उसके माध्‍यम से सामान्‍य मानवी के जीवन स्‍तर को उपर उठाने का उनका प्रयास सराहनीय है।


मुझे बताया गया है यहां के लगभग 50 गांवों में आप लोगों ने साथ मिलकर, आप उनके साथ जुड़कर के विकास के सेवा के काम कर रहे हैं। जब आपके इस प्रयास के बारे में मुझे बताया गया तो मेरी आशाएं और आंकाक्षाएं आपसे जरा बढ़ गई हैं। और आशा उसी से बढ़ती है जो कुछ करता है। आपने किया है इसलिए मेरी आपसे अपेक्षा भी जरा बढ़ गई हैं।


Friends 2021 में इस महान संस्‍थान के सौ वर्ष पूरे होने वाले हैं आज जो प्रयास आप 50 गांव में कर रहे हैं क्‍या अगले दो-तीन वर्षों में इसको आप सौ या दौ सौ गांव तक ले जा सकते हैं। मेरा एक आग्रह होगा कि अपने प्रयासों को देश की आवश्‍यकताओं के साथ ओर जोडि़ए। जैसे आप ये संकल्‍प ले सकते हैं कि 2021 तक जब इस संस्‍थान की शताब्‍दी हम मनाएगें, 2021 तक ऐसे सौ गांव विकसित करेंगे यहां के हर घर में बिजली कनेक्‍शन होगा, गैस कनेक्‍शन होगा, शौचालय होगा, माताओं और बच्‍चों का टीकाकरण हुआ होगा, घर के लोगों को डिजिटल लेनदेन आता होगा। उन्‍हें कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर महत्‍वपूर्ण फार्म ऑनलाइन भरना आता होगा।


आपको ये भली भांति पता है कि उज्‍ज्‍वला योजना के तहत दिए जा रहे गैस कनेक्‍शन और स्‍वच्‍छ भारत मिशन के तहत बनाए जा रहे शौचालयों ने महिलाओं की जिंदगी आसान करने का काम किया है। गांवों में आपके प्रयास, शक्ति की उपासक, इस भूमि में नारी शक्ति को सशक्‍त करने का काम करेगा और इसके अलावा ये भी प्रयास किया जा सकता है। कि इन सौ गांवों को प्रकृति प्रेमी, प्रकृति पूजन गांव कैसे बनाया जाए। जैसे आप प्रकृति के सरंक्षण की तरह हैं, कार्य करते हैं। वैसे ही ये गांव भी आपके मिशन का हिस्‍सा बनेगा। यानि ये सौ गांव उस विजन को आगे बढ़ाएं जहां जल भंडारण की पर्याप्‍त व्‍यवस्‍थाएं विकसित करके जल सरंक्षण किया जाता हो। लकड़ी न जलाकर वायु संरक्षण किया जाता हो। स्‍वच्‍छता का ध्‍यान रखते हुए प्राकृतिक खाद्य का उपयोग करते हुए भूमि संरक्षण किया जा सकता है।


भारत सरकार की गोबर धन योजना का भरपूर फायदा उठा जा सकता है। ऐसे तमाम कार्य जिनकी चेक लिस्‍ट बनाकर आप उन्‍हें पूरा कर सकते हैं।


साथियों, आज हम एक अलग ही विषय में अलग ही चुनौतियों के बीच जी रहे हैं। सवा सौ करोड़ देशवासियों ने 2022 तक जबकि आजादी के 75 साल होंगे। न्‍यू इंडिया बनाने का संकल्‍प लिया है। इस संकल्‍प की सिद्धि में शिक्षा और शिक्षा से जुड़ें आप जैसे महान संस्‍थानों की अहम भूमिका है। ऐसे संस्‍थानों से निकले नौजवान देश को नई ऊर्जा देते हैं। एक नई दिशा देते हैं। हमारे विश्‍वविद्यालय सिर्फ शिक्षा के संस्‍थान न बने। लेकिन सामाजिक जीवन में उनकी सक्रिय भागीदारी हो, इसके लिए प्रयास निरंतर जारी है।


सरकार द्वारा उन्‍नत भारत अभियान के तहत विश्‍वविद्यालयों को गांव के विकास के साथ जोड़ा जा रहा है। गुरुदेव के विजन के साथ-साथ न्‍यू इंडिया की आवश्‍यकताओं के अनुसार हमारी शिक्षा व्‍यवस्‍था को सुदृढ़ करने के लिए केंद्र सरकार लगातार प्रयासरत है।


इस बजट में revitalizing infrastructure & system in education यानि RISE नाम से एक नई योजना शुरू करने की घोषणा की गई है। इसके तहत अगले चार साल में देश के education system को सुधारने के लिए एक लाख करोड़ रुपया खर्च किया जाएगा। Global Initiative of Academic Network यानि ज्ञान भी शुरू किया गया। इसके माध्‍यम से भारतीय संस्‍थाओं ने पढ़ाने के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ शिक्षकों को आमंत्रित किया जा रहा है।


शैक्षिक संस्‍थाओं को पर्याप्‍त सुविधाएं मिलें इसके लिए एक हज़ार करोड़ रुपये के निवेश के साथ Higher Education Financing Agency शुरू की गई है। इससे प्रमुख शैक्षिक संस्‍थाओं में High Quality Infrastructure के लिए निवेश में मदद मिलेगी। कम उम्र में ही Innovation का mindset करने के लिए अब उस दिशा में हमें देश भर में 2400 स्‍कूलों को चुना। इन स्‍कूलों में Atal Tinkering Labs के माध्‍यम से हम छठी से 12वीं कक्षा के छात्रों पर फोकस कर रहे हैं। इन Labs में बच्‍चों को आधुनिक तकनीक से परिचित करवाया जा रहा है।


साथियों आपका ये संस्‍थान education में innovation का जीवन प्रमाण है। मैं चाहूंगा कि विश्‍व भारती के 11000 से ज्‍यादा विद्यार्थी innovation को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई योजनाओं का ज्‍यादा से ज्‍यादा लाभ उठाएं। आप सभी यहां से पढ़कर निकल रहे हैं। गुरुदेव के आर्शीवाद से आपको एक विजन मिला है। आप अपने साथ विश्‍व भारती की पहचान लेकर के जा रहे हैं। मेरा आग्रह होगा आपसे इसके गौरव को और ऊंचा करने के लिए आप निरंतर प्रयास करते रहें। जब समाचारों में आता है कि संस्‍थान के छात्र ने अपने innovation के माध्‍यम से, अपने कार्यों से 500 या हजार लोगों की जिंदगी बदल दी तो लोग उस संस्‍थान को भी नमन करते हैं।


आप याद रखिए, जो गुरुदेव ने कहा था “जोदि तोर दक शुने केऊ ना ऐशे तबे एकला चलो रे” अगर आपके साथ चलने के लिए कोई तैयार नहीं है तब भी अपने लक्ष्‍य की तरफ अकेले ही चलते रहो। लेकिन आज मैं यहां आपको यह कहने आया हूं। कि अगर आप एक कदम चलेंगे तो सरकार चार कदम चलने के लिए तैयार है।


जनभागीदारी के साथ बढ़ते हुए कदम ही हमारे देश की 21वीं सदी में उस मकाम तक ले जाएगें जिसका वो अधिकारी है। जिसका सपना गुरुदेव ने भी देखा था।


साथियो गुरुदेव ने अपने निधन से कुछ समय पहले गांधी जी को कहा था कि विश्‍व भारती वो जहाज है। जिसमें उनके जीवन का सबसे बहुमूल्‍य खजाना रखा हुआ है। उन्‍होंने उम्‍मीद जताई थी कि भारत के लोग हम सभी इस बहुमूल्‍य खजाने को संजोकर रखें। तो इस खजाने को न सिर्फ संजोने बल्कि इसको और समृद्ध करने की बहुत बड़ी जिम्‍मेवारी हम सब पर है। विश्‍व भारती विश्‍वविद्यालय न्‍यू इंडिया के साथ-साथ विश्‍व को नए रास्‍ते दिखाती रहे। इसी कामना के साथ मैं अपनी बात समाप्‍त करता हूं।


आप अपने, अपने माता-पिता, इस संस्‍थान और इस देश के सपनों को साकार करें इसके लिए आपको एक बार फिर बहुत-बहुत शुभकामनाएं, बहुत-बहुत धन्‍यवाद।


*****
 

Hindustani78

Senior Member
Joined
Nov 19, 2017
Messages
1,326
Likes
379
Prime Minister's Office
25-May, 2018 14:20 IST
PM visits Santiniketan, attends Convocation of Visva Bharati University, inaugurates Bangladesh Bhavana

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, today visited Santiniketan in West Bengal.
Prime Minister Modi received the Prime Minister of Bangladesh, Sheikh Hasina, at Santiniketan. Paying homage to Gurudev Rabindranath Tagore, the two leaders signed the visitors’ book. The two leaders then attended the Convocation of the Visva Bharati University.


Speaking on the occasion, the Prime Minister described India’s democratic system of governance as a great teacher, which inspires over 125 crore people. He said it was his good fortune to be among the learned people on this sacred land of Gurudev Rabindranath Tagore.


He congratulated the students who received degrees today. He said that all those who studied at this University have not just received a degree, but have also become inheritors of a great legacy.


The Prime Minister said that the teachings of the Vedas, which describe the entire world as one nest, or one home, are reflected in the values of Visva Bharati University.


Welcoming the Prime Minister of Bangladesh, Sheikh Hasina, he said that India and Bangladesh are two nations, whose interests are linked to mutual cooperation and coordination among each other.


The Prime Minister said that Gurudev Rabindranath Tagore is respected widely across the world. He recalled that he had the opportunity to unveil a statue of Gurudev Rabindranath Tagore in Tajikistan three years ago. He said Tagore is a subject of study in Universities across the world even today. He described Gurudev as a global citizen.


The Prime Minister said that Gurudev Rabindranath Tagore always wanted Indian students to keep abreast of developments across the world, even as they kept their Indianness intact. He appreciated Visva Bharati University for its efforts at skill development and education in nearby villages. He encouraged the University to expand this effort to 100 villages by its centenary year in 2021. He also called upon the University to work towards overall development of these 100 villages.


The Prime Minister said that institutions such as Visva Bharati University have a key role to play in the creation of a New India by 2022. He outlined initiatives taken by the Union Government in the education sector.


Speaking on the occasion of the inauguration of Bangladesh Bhavan, the Prime Minister described it as a symbol of the cultural ties between India and Bangladesh.


He said that this University and this sacred land have a history that has seen the freedom struggles of both India and Bangladesh. He added that it is a symbol of the shared heritage of the two countries.


He said that Bangabandhu Sheikh Mujibur Rehman is respected equally in both India and Bangladesh. Similarly, he added that Netaji Subhash Chandra Bose, Swami Vivekananda and Mahatma Gandhi are respected in Bangladesh as much as in India.


In the same vein, he said that Gurudev Rabindranath Tagore belongs to Bangladesh, as much as to India.
The Prime Minister said that Gurudev Rabindranath Tagore's credo of Universal Humanism is reflected in the Union Government's guiding principle of "Sabka Saath, Sabka Vikas." He said that the shared resolve of India and Bangladesh, against cruelty and terrorism, will continue to inspire future generations through the Bangladesh Bhavan. He recalled the felicitation of Indian soldiers by Bangladesh in New Delhi last year.


The Prime Minister said that the last few years have marked a golden period in relations between the two countries. He mentioned the resolution of the land boundary issue, and various connectivity projects.


He asserted that the two countries have similar goals, and are taking similar paths to achieve those goals.


***

Prime Minister's Office
25-May, 2018 19:23 IST
Preliminary Text of PM’s address at the inauguration of Bangladesh Bhavan at Santiniketan in West Bengal

मित्र राष्ट्र बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना जी, सम्माननीय अतिथिगण, मुखयमंत्री जी, गवर्नर साहब, साथियों।

'बांग्लादेश भवन' भारत और बांग्लादेश के सांस्कृतिक बंधुत्व का प्रतीक है। यह भवन दोनों देशों के करोड़ों लोगों के बीच कला, भाषा, संस्कृति, शिक्षा, पारिवारिक रिश्तों और अत्याचार के खिलाफ साझा संघर्षों से मजबूत हुए रिश्तों का भी प्रतीक है। इस भवन के निर्माण के लिए मैं शेख हसीना जी का और बांग्लादेश की जनता का बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं।

गुरुदेव टैगोर, जो भारत और बांग्लादेश दोनों देशों के राष्ट्रीय गान के रचयिता हैं, उनकी कर्मभूमि पर, रमज़ान के पावन महीने में, इस भवन का उद्घाटन बहुत खुशी का अवसर है।

साथियों, इस विश्वविद्यालय व इस पवित्र भूमि का इतिहास बांग्लादेश की आज़ादी, भारत की आज़ादी, और उपनिवेशकाल में बंगाल के विभाजन से भी पुराना है। यह हमारी उस साझा विरासत का प्रतीक है जिसे न तो अंग्रेज बांट पाए और ना ही विभाजन की राजनीति। इस साझा विरासत के गंगासागर की अनगिनत लहरें दोनों देशों के तटों को समान रुप से स्पर्श करती हैं। हमारी समानताएं हमारे सम्बन्धों के मजबूत सूत्र हैं।

बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान को जितना सम्मान बांग्लादेश में मिलता है उतना ही हिंदुस्तान की धरती पर भी मिलता है। स्वामी विवेकानंद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और महात्मा गांधी के लिए जो भावना भारत में है, ठीक वैसी ही बांग्लादेश में भी देखने को मिलती है।

विश्व कवि टैगोर की कविताएं और गीत बांग्लादेश के गांव-गांव में गूंजते हैं, तो काज़ी नज़रूल इस्लाम जी की रचनाएं यहां पश्चिम बंगाल के गली-कूचों में भी सुनने को मिलती है ।

बांग्लादेश की कई गणमान्य विभूतियों के नाम इस विश्वविद्यालय से जुड़े हुए हैं। इनमें रिजवाना चौधरी बन्न्या, अदिति मोहसिन, लिली इस्लाम, लीना तपोशी, शर्मीला बनर्जी, और निस्सार हुसैन जैसी हस्तियाँ शामिल हैं ।

गुरुदेव रविन्द्रनाथ टैगोर की दूरदृष्टी का परिणाम यह संस्था हमारी राजनीतिक सीमाओं और बंधनों से परे है। गुरुदेव स्वयं एक स्वतन्त्र विचार के व्यक्ति थे, जिन्हें किन्ही सीमाओं के बंधनों ने नहीं बांधा । वे जितने भारत के हैं, उतने ही बांग्लादेश के भी हैं। गगन हरकारा और लालन फ़क़ीर के बंगाली लोक संगीत से उनका परिचय बांग्लादेश की धरती पर ही हुआ था। अमार शोनार बांग्ला की धुन के लिए उन्हें गगन हरकारा से प्रेरणा मिली थी। बौल संगीत का प्रभाव रविन्द्र संगीत में साफ़ सुनाई देता है।

खुद बंगबंधु भी गुरुदेव के विचारों और उनकी कला के बहुत बड़े प्रशंसक थे। यह टैगोर के Universal Humanism का ही विचार था जिसने बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान को प्रभावित किया था। गुरुदेव का ‘शोनार बांग्ला’ बंगबंधु के मंत्रमुग्ध कर देने वाले भाषणों का एक अहम हिस्सा था। टैगोर के Universal Humanism का विचार ही हमारे लिए भी प्रेरणा है। हमने अपने शब्दों में उसे 'सबका साथ, सबका विकास' के मूलमंत्र में परिलक्षित किया है।

साथियों, आने वाली पीढ़ियाँ, वे चाहे बांग्लादेश की हों या फिर भारत की, वे इन समृद्ध परंपराओं, इन महान आत्माओं के बारे में जानें और समझें, इसके लिए हम सबको प्रयास करते रहना होगा। हमारी सरकार के सभी सम्बन्धित अंग, जैसे भारत का उच्चायोग तथा अन्य संगठन और व्यक्ति, भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद इस काम में लगे हुए हैं।

आज जैसे यहां पर 'बांग्लादेश भवन' का लोकार्पण किया गया है, वैसे ही बांग्लादेश के कुश्तिया जिले में गुरुदेव टैगोर के निवास “कुठीबाड़ी” के renovation का जिम्मा हमने उठाया है।

साथियों,इस साझा विरासत और रबीन्द्र संगीत की मधुरता ने हमारे संबंधों को अमृत से सींचा है और हमें सुख-दुःख के एक सूत्र में पिरोया है। यही कारण है कि बांग्लादेश की मुक्ति के लिए संघर्ष भले ही सीमा के उस पार हुआ हो, लेकिन प्रेरणा के बीज इसी धरती पर पड़े हैं। अत्याचारी सत्ता ने अपने स्वार्थ के लिए घाव भले ही बांग्लादेश के लोगों को दिए हों, लेकिन पीड़ा इस तरफ महसूस की गई। यही कारण है कि जब बंगबंधु ने मुक्ति का बिगुल बजाया तो करोड़ों भारतीयों की भावना भी उस मुहिम के साथ स्वत: जुड़ गई। अत्याचार और आतंक के खिलाफ हमारे साझा संकल्प और उसका इतिहास इस भवन के जरिए भावी पीढ़ियों को प्रेरणा देता रहेगा।

साथियों, मुझे याद है कि पिछले वर्ष उस समय कितना भावुक वातावरण बन गया था जब दिल्ली में भारतीय सैनिकों को बांग्लादेश ने सम्मानित किया था। ये उन 1661 भारतीय सैनिकों का सम्मान ही नहीं था जिन्होंने बांग्लादेश की आजादी के लिए बलिदान दिया था, बल्कि ये उन करोड़ों भावनाओं का भी सम्मान था जो इस पूरे संघर्ष में बांग्लादेश के एक-एक मुक्ति योद्धाओं के साथ जुडी हुई थी। ऐसा बहुत कम होता है जब पड़ोसी देश एक दूसरे के सैनिकों को इस प्रकार का सम्मान देते हैं।

साथियों, पिछले कुछ वर्षों से भारत और बांग्लादेश के संबंधों का शोनाली अध्याय लिखा जा रहा है। Land boundary व समुद्री सीमाओं जैसे जटिल द्विपक्षीय विषय, जिन्हें सुलझाना किसी समय लगभग असंभव माना जाता था, वे अब सुलझ चुके हैं। चाहे सड़क हो, रेल हो या अंतर्देशीय जलमार्ग हों, या फ़िर coastal shipping, हम connectivity के क्षेत्र में भी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। 1965 से बंद पड़ी connectivity की राहें एक बार फ़िर खोली जा रही हैं, और connectivity के नए आयाम भी विकसित हो रहे हैं।

पिछले साल ही कोलकाता से खुलना के बीच air conditioned train service शुरु की गई। इसको हमने बंधन का नाम दिया है, यानि मैत्री। और बंधन के रास्ते पर हम अपने रिश्तों को आगे बढ़ा रहे हैं।

भारत से बांग्लादेश को बिजली की आपूर्ति निरंतर हो रही है। अभी यह 600 मेगावाट है। इस साल इसको बढ़ाकर 1100 मेगावाट करने का लक्ष्य है।

भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में internet का एक connection बांग्लादेश से भी आ रहा है। बांग्लादेश के विकास के लिए जो प्राथमिकताएं प्रधानमंत्री शेख हसीना जी ने चुनी हैं, उनमें सहयोग के लिए भारत ने 8 billion dollars की lines of credit का प्रावधान किया है। इनके क्रियान्वयन में अच्छी प्रगति है, projects की पहचान हो चुकी है और कुछ के लिए तो credit भी दे दिया गया है।

बांग्लादेश Space Technology में भी आगे बढ़ रहा है। हाल में ही बांग्लादेश ने अपना पहला Satellite, बंगबंधु, launch किया है। इसके लिए भी प्रधानमंत्री जी और बांग्लादेश की जनता को बहुत-बहुत बधाई। आज भारत में हम Space Technology का इस्तेमाल गरीब का जीवन स्तर ऊपर उठाने और सिस्टम में Transparency लाने के लिए कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि भविष्य में Space Technology के क्षेत्र में भी हम दोनों देशों के बीच सहयोग के नए द्वार खुलेंगे।

मुझे खुशी है कि प्रधानमंत्री शेख हसीना जी और हमारे बीच लगातार संपर्क से दोनों देशों के बीच सहयोग को और ऊर्जा मिल रही है। वो पिछले वर्ष भी भारत आईं थीं और इस कार्यक्रम में भी उनकी स्वयं की उपस्थिति, इस कार्यक्रम की गरिमा और बढ़ा रही है।

साथियों, हमारी आशांएं और आकांक्षाएं जितनी समान हैं उतनी ही हमारी चुनौतियां भीं हैं। जलवायु परिवर्तन का संकट हमारे सामने है। लेकिन अगर दहकता हुआ सूरज हमारे लिए चुनौतियां लाने वाला है, वहीं अवसर भी उसी की रोशनी से पैदा होते हैं। प्रधानमंत्री शेख हसीना जी ने 2021 तक बांग्लादेश के लिए Power To All का विजन रखा है। और यहां भारत में हमने अगले साल तक देश के हर घर तक बिजली कनेक्शन पहुंचाने का target रखा है। हम देश के हर गांव तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य पहले ही पूरा कर चुके हैं। हमारे संकल्प समान हैं, और उन्हें सिद्ध करने की राह भी एक-सी है।

साथियों, भारत ने International Solar Alliance का Initiative लिया है। दुनिया के कई देश इस Alliance का हिस्सा बन चुके हैं। यह Alliance दुनिया भर में solar power की capacity को explore करेगा और अलग-अलग देशों को funding का एक mechanism भी तैयार करेगा। मुझे प्रसन्नता है कि बांग्लादेश भी Solar Alliance का हिस्सा है। इस वर्ष मार्च में दिल्ली में International Solar Alliance का summit हुआ। हमें बहुत प्रसन्नता हुई कि बांग्लादेश के राष्ट्रपति उस summit में शामिल हुए। ये दिखाता है कि सीमा के दोनों तरफ चुनौतियों को अवसरों में बदलने के लिए सहयोग की इच्छा कितनी प्रबल है।

पिछले महीने मैं बांग्लादेश के 100 सदस्यीय युवा प्रतिनिधिमंडल से मिला था। मैंने पाया कि उनकी आकांक्षाएं, उनके सपने, भारत के युवाओं की आकांक्षाओं और सपनों जैसी ही हैं। और दोनों देशों के विकास के लिए, हमारे युवाओं के सपनों को साकार करने के लिए, हम साथ मिल कर काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

आज जब प्रधानमंत्री शेख हसीना के नेतृत्व में बांग्लादेश विकास की नई राह पर चल पड़ा है। आज जब बांग्लादेश ने developing economy का स्तर प्राप्त करने के सभी मानदंड पूरे कर लिए हैं तो जितना गर्व बांग्लादेश को है, उतना ही गर्व सारे भारत को भी है।

बांग्लादेश ने अपने सोशल सेक्टर में जिस तरह की प्रगति की है, गरीबों का जीवन आसान बनाने का काम किया है, मैं मानता हूँ वो हम भारत के लोगों के लिए भी प्रेरणा दे सकता है, ऐसा अद्भुत काम किया है।

साथियों, आज भारत और बांग्लादेश की विकास यात्रा के सूत्र, एक सुंदर हार की तरह एक दूसरे से गुंथ रहे हैं। दुनिया के कुछ हिस्सों में जिस तरह अनिश्चितता का माहौल बना है, विश्व में स्थितियां तेजी से बदल रही हैं। लेकिन पिछले कुछ सालों में एक ध्रुव सत्य हमारे सामने आया है, और वो है, प्रगति और समृद्धि के लिए, शांति और स्थिरता के लिए, सुख और सद्भाव के लिए, भारत और बांग्लादेश की मैत्री और हमारा आपसी सहयोग। इस सहयोग का विकास केवल द्विपक्षीय स्तर पर ही नहीं हुआ है। Bimstec जैसे प्लेटफॉर्म के जरिए हमारे सहयोग ने क्षेत्रीय प्रगति और कनेक्टिविटी को भी बढ़ावा दिया है।

Friends, इन क्षेत्र की प्रगति में हर देश की प्रगति निहित है। समय के इस कालखंड में ये हम सभी के लिए एक अवसर की तरह आया है। आज भारत और बांग्लादेश, जिस मित्रता के साथ आगे बढ़ रहे हैं, एक दूसरे के विकास में सहयोग कर रहे हैं, वो दूसरों के लिए भी एक सबक है, एक मिसाल है, एक अध्ययन का भी विषय है।

साथियों, प्रधानमंत्री शेख हसीना जी ने बांग्लादेश को 2041 तक विकसित देश बनाने का जो लक्ष्य रखा है वह उनकी दूरदृष्टि और बंगबंधु, उस परम्परा का प्रतीक है, जो की हर बांग्लादेशी के हित की लगातार चिन्ता करती है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने में भारत का पूर्ण सहयोग बना रहेगा।

शेख हसीना जी के यहां आने पर, मैं एक बार फिर आभार व्यक्त करता हूं। आप सभी को बांग्लादेश भवन के उद्घाटन की पुन: बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूँ। धन्यवाद।

*****
 

TakAman

Regular Member
Joined
May 16, 2021
Messages
97
Likes
470
Country flag
It's because the rating was calculated on "per faculty" basis.
Meaning total output/total #faculties.

Hence Indian university came on top.

India lacks people in scientific field. Indians already publish 150-250% higher than japanese and Chinese on top journals like nature, on a per scientist basis.

Total publications by nation in top journals (Nature, top eng journals, etc) in year 2020:


China: 7.8 Lkhs (#1), USA: 7.6 Lkhs (#2), India : 2.1 Lkhs (#4)

Though number of scientists in India lack far behind USA and China.


India: 137, China: 1037 (scientists/million)

Clearly, China has 10x more scientists than India and they do a great job at publishing only 3x more articles than India. How innovative !!!

Same goes for Japan which has 5500 scientists/million.
Or 40x more scientists than India per million.

Considering it has 10x less people, that would still mean JPN has 4x more scientists than India, but less #publications in top journals.
 
Last edited:

[email protected]

Senior Member
Joined
Apr 4, 2010
Messages
2,337
Likes
4,953
Country flag
I checked the QS website. There is no category of university rankings based on the criterion of citation per faculty.

Overall IISc ranking is 186.

 

TakAman

Regular Member
Joined
May 16, 2021
Messages
97
Likes
470
Country flag
I checked the QS website. There is no category of university rankings based on the criterion of citation per faculty.

Overall IISc ranking is 186.


Thus IISc is just hyping things up.
You are wrong, it is there:


Go to above link, click "All Rankings indicators", sort by citations per faculty.

IISc is #1, Princeton is #2

5 Indian universities in that category in top 100, IIT Guwahati, Roorkee, Kanpur, Kharagpur and IISc
 

Latest Replies

Global Defence

New threads

Articles

Top