Stop encouraging support to militant groups in Kashmir: Pakistan panel tells govt

Discussion in 'Pakistan' started by tsunami, Feb 2, 2016.

  1. tsunami

    tsunami Regular Member

    Joined:
    Jul 20, 2015
    Messages:
    458
    Likes Received:
    462
    Islamabad: A Pakistani parliamentary panel has asked the government to avoid encouraging support to militant groups in Kashmir and take action against outfits involved in attacks there to dispel international concerns.

    The National Assembly Standing Committee on Foreign Affairs yesterday issued a four-page policy paper linked to Kashmir, the Express Tribune reported.

    "Pakistan should not encourage calls for active support to armed, banned, militant groups in Kashmir," the paper, that has a series of policy recommendations on Indo-Pak ties, said.

    India has been demanding that Pakistan act against militant groups operating from its soil.

    The committee, headed by ruling Pakistan Muslim League- Nawaz (PML-N) lawmaker Awais Ahmad Leghari, proposed the government to take action against "violent armed outfits" to dispel international concerns that Pakistan was not doing enough against groups involved in attacks in Kashmir.

    The panel suggested that Pakistan's policy towards India should be based on four key principles -- reciprocity, reduction, resumption and result.

    "Pakistan should continue seeking comprehensive engagement with India on all outstanding issues," it said.

    In the absence of this scenario, however, the committee recommended that the government engage with India on four key issues -- Kashmir, water, trade, and culture and communication.

    On Kashmir, the panel recommended that Pakistan continue calling for resolution of the dispute as the core issue between the two countries.

    "A key component of Pakistan's proactive involvement on the Kashmir issue should be lending solid diplomatic and moral support to the Kashmiris," it said.

    On the water issue, the panel said the issues should be discussed holistically rather than focusing on particular projects. It called for highlighting issues related to the Indus Water Treaty in international forums.

    On trade, the committee said Pakistan should focus more on reducing and controlling informal trade with India.

    "This can be done through enhancing the capacity of the customs department and the border forces. Furthermore, by relaxing the process to acquire visa, informal trade can be controlled," it said.


    http://zeenews.india.com/news/south...ashmir-pakistan-panel-tells-govt_1851538.html

    Pakistan parliamentary panel admit countries support to terrorist :rofl:
     
  2.  
  3. tsunami

    tsunami Regular Member

    Joined:
    Jul 20, 2015
    Messages:
    458
    Likes Received:
    462
    पाक संसद की कमेटी ने माना- J&K में आतंकियों को सपोर्ट करता है उनका देश

    इस्लामाबाद. पाकिस्तान ने पहली बार माना है कि उनकी सरकार कश्मीर में आतंक को सपोर्ट करती रही है। दरअसल, पाकिस्तान पार्लियामेंट की एक कमेटी ने अपनी सरकार को कश्मीर में आतंकियों का सपोर्ट बंद करने का कहा है। कमेटी ने यह भी कहा है कि पाक के एक्शन न लेने से इंटरनेशनल कम्युनिटी में देश का भरोसा कम हो रहा है। यही नहीं कमेटी के चीफ ने माना है कि उनका देश कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ गंभीर नहीं है।

    कमेटी ने और क्या कहा...

    - नेशनल असेंबली स्टैंडिंग कमेटी ने फॉरेन अफेयर्स पर चार पेज का पॉलिसी पेपर जारी किया।
    - इसमें भारत-पाक संबधों, कश्मीर, वॉटर डिस्ट्रीब्यूशन और आतंकवाद जैसे मुद्दों का जिक्र है।
    - कमेटी के चीफ नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन के सांसद अवैस अहमद लेघारी हैं।
    - रिपोर्ट के मुताबिक, "पाकिस्तान को कश्मीर में हथियारबंद और बैन किए जा चुके आतंकियों को सपोर्ट देना बंद करना चाहिए।"
    - "इस मसले के हल के लिए पाकिस्तान को कश्मीर रिजॉल्यूशन की बात करनी चाहिए।"
    -"कश्मीर के मामले में पाकिस्तान को कश्मीरियों के मोरल और डिप्लोमैटिक सपोर्ट को ढाल बनाना चाहिए।"
    - बता दें कि यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है, जब फरवरी में फॉरेन सेक्रेटरी लेवल की बातचीत होनी है।

    कई तरीकों से भारत के साथ जुड़े रहने पर जोर

    - "भारत के साथ रिश्ता चार प्रिंसिपल- पहल का जवाब देना, आपसी भरोसे में कमी को खत्म करना, रुकी हुई चीजों को फिर शुरू करना और नतीजे की बुनियाद पर होना चाहिए।"
    - अगर यह नहीं हो पाता है तो दोनों देश कश्मीर, वॉटर, ट्रेड, कल्चर और कम्युनिकेशन के जरिए जुड़े रह सकते हैं।

    पानी पर क्या कहा?

    - "पानी के मुद्दे पर दोनों देशों को किसी खास प्रोजेक्ट पर बात करने के बजाय पूरे मामले पर बातचीत करनी चाहिए।"
    - "इसमें इंटरनेशनल फोरम्स पर इंडस वॉटर ट्रीटी से जुड़े मुद्दों को सामने लाना चाहिए।"

    ट्रेड पर क्या कहा?

    - "पाकिस्तान को भारत के साथ इन्फॉर्मल ट्रेड बढ़ाने और कंट्रोल पर फोकस करना चाहिए।"
    - "यह कस्टम डिपार्टमेंट की कैपीसिटी और बॉर्डर फोर्सेस को बढ़ाकर किया जा सकता है।"
    - "इसके साथ वीजा नियमों में छूट भी दी जानी चाहिए।"

    एक्शन को लेकर सीरियस नहीं पाक: कमेटी चीफ

    - कमेटी के चीफ और सांसद अवैस अहमद लेघारी के मुताबिक, भारत की मांग रही है कि पाक अपनी धरती से आतंक के खिलाफ एक्शन ले।
    - "इंटरनेशनल कम्युनिटी को लगता है कि कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान सीरियस नहीं है।"

    http://www.bhaskar.com/news-ht/INT-...r-pak-panel-tells-government-5238650-PHO.html
     
  4. anoop_mig25

    anoop_mig25 Senior Member Senior Member

    Joined:
    Aug 17, 2009
    Messages:
    5,195
    Likes Received:
    2,223
    Yeh support pakistan based oragnisation
     

Share This Page